May 16, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

बारिश से अधिकतम तापमान में गिरावट, गर्मी से मिली राहत

रांची:- झारखंड की राजधानी रांची समेत राज्य के विभिन्न जिलों में आज दोपहर बाद हुई बारिश से अधिकतम तापमान में गिरावट दर्ज की गयी है, वहीं भीषण गर्मी से परेशान लोगां को बड़ी राहत मिली है।
रांची स्थित भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के वरीय वैज्ञानिक अभिषेक आनंद ने बताया कि पश्चिमी विक्षोभ के कारण लोकल सिस्टम में आए बदलाव के कारण मौसम में यह परिर्वतन है। रांची में गुरुवार की मध्य रात्रि को ही मौसम का मिजाज बदला। लगभग आधे घंटे से भी ज्यादा समय तक 40-50 किलोमीटर प्रति घंटा के रफ्तार से तेज हवा चली। वहीं राज्य के कई हिस्सों में बादल छाए रहे। जबकि जमशेदपुर में 23 मिमी बारिश हुई। ओले भी गिरे। शुक्रवार को रांची समेत विभिन्न जिलों में बारिश की हुई। मौसम विभाग के मुताबिक अगले 5 दिनों तक झारखंड में यह स्थिति बनी रहेगी।
आंधी और बादल के बीच अब रांची का पारा भी नीचे आने लगा है। 24 घंटे में रांची के अधिकतम तापमान में 1 डिग्री सेल्सियस की कमी है। एक दिन पहले रांची का अधिकतम तापमान 39.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किय गया था। लेकिन आज अधिकतम तापमान में करीब 4 से डिग्री गिरावट दर्ज की गयी। अभिषेक आनंद ने बताया कि तेज हवा और बारिश के कारण तापमान में गिरावट आएगी। अगले 2-3 दिन में तापमान में तीन से चार डिग्री तक गिरावट आने की संभावना है। पारा 35 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच सकता है।
वहीं राज्य भर के मौसम की बात करें तो पिछले 24 घंटे में सबसे अधिक तापमान 42.1 डिग्री सेल्सियस डाल्टेनगंज का दर्ज किया गया है। जबकि सबसे कम न्यूनतम तापमान भी डाल्टेनगंज का 23 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। इसके अलावा जमशेदपुर का अधिकतम तापमान 41.4 डिग्री सेल्सियस, बोकारो का 41.2 डिग्री सेल्सियस और चाईबासा का अधिकतम तापमन 41.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। रांची के कई इलाकों में घंटों गुल ही बिजली रू आधी रात को आई आंधी के कारण रांची के कई इलाकों मे घंटों बिजली गुल ही। चेसायर होम रोड म पेड़ की डाली गिर जाने से सेक्शनॉलाइजर ऑफ हो गया। इसके कारण उस इलाके में रात 1.30 से सुबह 6.30 बजे तक बिजली गुल रही। कोकर इलाके में भी लगभग 4-5 घंटे तक लोगों को कहीं लो वोल्टेज तो कहीं बिजली गुल की परेशानी का सामना करना पड़ा।

Recent Posts

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
%d bloggers like this: