January 17, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

झारखंड में हो सकेगी मास्टर ऑफ वोकेशन कोर्स की पढ़ाई

रांची:- डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी विश्वविद्यालय के स्कूल ऑफ जर्नलिज्म और मास कम्युनिकेशन में इस सत्र से मास्टर ऑफ वोकेशन कोर्स की शुरूआत होने जा रही है। वर्ष 2019 से बैचलर आफ वोकेशन (बी.वोक) के कोर्सों में जर्नलिज्म और मास कम्युनिकेशन व फिल्म मेकिंग विषय पढ़ाये जा रहे है।
एस. जे. एम. सी के डायरेक्टर, डॉक्टर मोहम्मद अयूब नें बताया है कि विभाग में वर्तमान मांग के अनुसार विद्यार्थियों के लिए मीडिया और फिल्म मेकिंग कोर्सों की शुरूआत हुई है। हमारा प्रयास रहा है कि हर क्षेत्र में विद्यार्थियों को कैरियर की संभावना दे सकें। जिसमें विभाग द्वारा इंटर्नशिप, नौकरी के प्रस्ताव, शॉर्ट फिल्म, फोटोग्राफी और अन्य कौशल केंद्रित अवसर दिये जा रहे हैं। साथ ही कोरोना काल में भी विद्यार्थियों के लिए लगातार ऑनलाइन माध्यम से कक्षा का संचालन किया जा रहा है यही प्रयास मास्टर ऑफ वोकेशनल कोर्सों में भी किया जायेगा।
डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी विश्वविद्यालय को पूर्व में ’रांची कॉलेज’ के नाम से जाना जाता था। जिसका अभूतपूर्व गौरवशाली इतिहास रहा है। यह आज के समय में झारखंड के शीर्ष उत्तम शिक्षण- संस्थानों में शामिल है। 2017 में इसे ’स्टेट यूनिवर्सिटी’ (राज्य विश्वविद्यालय) दर्जा प्राप्त हुआ।
ब्रिटिश काल में आज से 94 साल पूर्व सन् 1926 में ’रांची कॉलेज’ (वर्तमान डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी यूनिवर्सिटी) की स्थापना एक सरकारी ’इंटर कॉलेज’ के रूप में की गई थी। 1946 में इस कॉलेज में पहली बार अपडेशन कर स्नातक व स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम आरंभ किए गए। भारत के आजादी के बाद यह घटना विश्वविद्यालय की इकाई के रूप में कार्यरत रहा तथा 1960 में यह रांची विश्वविद्यालय का अभिन्न अंग बन गया। 2009 में इसे ऑटोनॉमी(स्वायत्तता) प्राप्त हुई और रांची कॉलेज स्वायत्त निकाय बन गया।
अभूतपूर्व परिवर्तन 3 वर्ष पूर्व 2017 में हुआ जब इस कॉलेज से अपग्रेड कर विश्वविद्यालय (झारखंड विश्वविद्यालय अधिनियम) के तहत का दर्जा प्राप्त हुआ। साथ ही प्रसिद्ध भारतीय राजनीतिज्ञ व शिक्षाविद् डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी के नाम पर विश्वविद्यालय नया नामकरण हुआ।

Recent Posts

%d bloggers like this: