महाशिवरात्रि के पावन अवसर पर शिव शिष्य हरीन्द्रानन्द फाउंडेशन के द्वारा पुरे भारत वर्ष के विभिन्न विभिन्न क्षेत्रों में हजारों स्थानों पर महाशिवरात्रि के पावन बेला में पाँच घंटे का ‘‘हर भोला, हर शिव’’ शिव संकीर्त्तन एवं शिव की पुजा-अर्चना का आयोजन किया गया। अरूणाचल से लेकर कर्नाटक तक लोगों में काफी उत्साह एवं शिव शिष्यों में अपने गुरू शिव के प्रति आस्था नजर आई। आयोजन के उपरान्त लोगों ने सभी को शिव को अपना गुरू बनाने हेतु प्रेरित किया एवं श्री हरीन्द्रानन्द जी के बताये तीन सुत्रों का पालन करने को कहा गया। शिव का शिष्य होने के लिए किसी पारम्परिक औपचारिकता अथवा दीक्षा की आवश्यकता नहीं है। केवल यह विचार कि ‘‘शिव मेरे गुरू हैं” शिव की शिष्यता की स्वमेव शुरूआत करता है। इसी विचार का स्थायी होना हमको आपको शिव का शिष्य बनाता है।

कार्यक्रम के उपरान्त भक्तों के बिच महाप्रसाद का भी वितरण किया गया।

Leave a Reply

%d bloggers like this: