April 13, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

भाजपा विधायक विनोद नारायण झा की शह पर हुआ मधुबनी हत्याकांड, कॉल रिकॉर्ड की हो जांच : तेजस्वी

पटना:- बिहार विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव ने आज आरोप लगाया कि मधुबनी जिले के महमदपुर गांव में होली के दिन हुआ हत्याकांड भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के स्थानीय विधायक विनोद नारायण झा की शह पर किया गया इसलिए विधायक के कॉल रिकॉर्ड की जांच कराई जाए।
श्री यादव ने पीड़ित परिवार से मिलकर लौटने के बाद आज यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा कि महमदपुर में पांच लोगों की हुई हत्या के मामले में भाजपा के विधायक एवं पूर्व मंत्री श्री झा और स्थानीय पुलिस के अधिकारियों के बीच हुई बातचीत के कॉल रिकॉर्ड में सारे राज कैद हैं। यदि इस की ठीक से जांच की जाए तो इस पूरे हत्याकांड के साजिशों का पर्दाफाश हो जाएगा।
प्रतिपक्ष के नेता ने पूर्व मंत्री श्री झा को चुनौती देते हुए कहा कि यदि वह स्वयं को इस मामले में बेगुनाह बता रहे हैं तो अपनी कॉल रिकॉर्ड की जांच क्यों नहीं करवाते। सारी सच्चाई लोगों के सामने आ जाएगी। उन्होंने इस मामले में मधुबनी पुलिस की भूमिका पर भी सवाल उठाया और कहा कि जब तक जिले में पुलिस अधीक्षक और पुलिस उपाधीक्षक बने रहेंगे पीड़ित परिवार को न्याय नहीं मिल सकता है। श्री यादव ने कहा कि इतनी बड़ी घटना होने के बाद भी अभी तक पीड़ित परिवार को सुरक्षा प्रदान नहीं कराया गया। पीड़ित परिवार भय के साए में जीने के लिए विवश है। परिवार के लोग डर से दिन-रात सो नहीं पा रहे हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि सिर्फ इस मामले में बड़ी मछली को बचाने की कोशिश की जा रही है। स्थानीय प्रशासन का आरोपियों को संरक्षण प्राप्त है।
प्रतिपक्ष के नेता ने कहा कि हत्या से एक दिन पहले विधायक श्री झा ने इस हत्याकांड के आरोपियों के साथ बैठक की और अगले ही दिन इतनी बड़ी घटना हो गई। घटना के बाद आरोपियों को स्थानीय पुलिस नेपाल छोड़ने भी गई। इससे स्पष्ट होता है कि इसमें कौन लोगों का हाथ है। श्री यादव ने सवालिया लहजे में कहा कि किसी भी घटना के बाद फॉरेंसिक जांच टीम मौके पर पहुंचती है लेकिन इस घटना के एक सप्ताह बाद भी फॉरेंसिक टीम नहीं पहुंची थी। इस बात को स्वयं पुलिस अधीक्षक ने भी माना है, जिससे स्पष्ट है कि किस तरह से इस हत्याकांड में पुलिस कार्रवाई कर रही है। नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि मधुबनी के पुलिस उपाधीक्षक का आरोपी प्रवीण झा से नजदीकी संबंध है। इसके कई प्रमाण भी हैं। घटना के बाद आरोपी झा को पहले भगा दिया गया फिर जब वह कल पीड़ित परिवार से मिलकर लौटे और दबाव बनाया तब जाकर पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार किया है।
श्री यादव ने कहा कि इस घटना में पुलिस की भूमिका कहीं न कहीं संदिग्ध है। उन्होंने कहा कि यदि कल वह पीड़ित परिवार से मिलने नहीं गए होते तो एक की भी गिरफ्तारी नहीं होती।
प्रतिपक्ष के नेता ने कहा कि श्री नीतीश कुमार सबसे बेबस और लाचार मुख्यमंत्री हैं। कानून-व्यवस्था को सुधारने की इनकी कोई इच्छा नहीं है। उन्होंने कहा कि वाह पीड़ित परिवार से मिलने के लिए गए लेकिन श्री कुमार राजधानी पटना में बैठकर सिर्फ जोड़-तोड़ कर अपनी कुर्सी बचाने में लगे हुए थे। इस घटना के बाद न तो मुख्यमंत्री और न ही उनके दोनों उपमुख्यमंत्री ने ही पीड़ित परिवार से मिलना जरूरी समझा है।

Recent Posts

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
%d bloggers like this: