अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

भगवान जगन्नाथ का एकांतवास 11 को समाप्त होगा, 12 को रथयात्रा

रांची:- कोरोना के कारण इस बार भी ऐतिहासिक जगन्नाथ रथयात्रा में आम सहभागिता पर संशय है। इसको लेकर हाईकोर्ट में पीआइल दर्ज किया गया है। जिस पर सुनवाई होनी है। जबकि दूसरी ओर मंदिर में रथयात्रा अनुष्ठान की तैयारी जोरशोर से चल रही है। मंदिर परिसर की विशेष साफ-सफाई की जा रही है। जगन्नाथ मंदिर के साथ मौसीबाड़ी मंदिर का रंग-रोगन अंतिम चरण में है। गुंबद की साज-सज्जा की गई। 11 जुलाई आषाढ़ शुक्ल प्रतिपदा को नेत्रदान अनुष्ठान संपन्न होगा। इसके साथ ही भगवान जगन्नाथ, बड़े भाई बलभद्र और बहन सुभद्रा का एकांतवास समाप्त हो जाएगा। 24 जून को स्नान यात्रा के बाद भगवान एक सप्ताह के एकांतवास में चले गए थे। वहीं, 12 जुलाई को भगवान जगन्नाथ सहित भाई-बहन की रथयात्रा निकाली जायेगी। भगवान आम जन के बीच आएंगे। एक सप्ताह तक मौसीबाड़ी में आतिथ्य स्वीकार करने के बाद वापस अपने धाम लौट जाएंगे। पुरी के बाद रांची की जगन्नाथ रथयात्रा ऐतहासिक
होती है। इसमें लाखों की भीड़ उमड़ती है। यह दूसरी बार है जब रथयात्रा में आम लोग के सहभागी बनने पर संशय है।

%d bloggers like this: