April 15, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

महिला दिवस पर विरोध प्रदर्शन कर रही महिलाओं पर लाठीचार्ज, छह घायल

चतरा:- जहां एक ओर आज पूरा देश महिलाओं के सम्मान में अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाकर उन्हें सम्मान दे रहा है। वहीं दूसरी ओर चतरा के कोयलांचल टंडवा में कार्यरत एनटीपीसी के अधिकारियों व कर्मियों के अलावे प्रखंड प्रशासन ने तीन सूत्री मांगों के समर्थन में आंदोलित महिलाओं के साथ मारपीट की घटनाओं को अंजाम देकर बेरहमी का मिशाल पेश कर महिलाओं का अपमान किया है। एनटीपीसी, सीआईएसएफ, प्रखंड प्रशासन व पुलिस के अधिकारियों द्वारा की गई मारपीट की इस घटना में करीब एक दर्जन महिलाएं घायल हुई हैं। जिसके बाद आनन-फानन में मारपीट की घटना में घायल आंदोलित महिला भू-रैयतों को इलाज के लिए स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया गया है।
जानकारी के अनुसार नौकरी व मुआवजा समेत तीन सूत्री मांगों के समर्थन में भू-रैयत महिलाएं एनटीपीसी का संपूर्ण कार्य ठप कराते हुए तीन दिनों से धरना प्रदर्शन कर रही थी। इसी दौरान आज एनटीपीसी के प्रबंधक धनंजय सिंह, धीरज राय, बीडीओ प्रताप टोप्पो व धीरज गुप्ता समेत एनटीपीसी और प्रखंड प्रशासन के अधिकारी दल बल के साथ मौके पर पहुंचे और एनटीपीसी का बंद काम शुरू कराने का प्रयास करने लगे। जिसका एनटीपीसी के नीलाम्बर-पीताम्बर गेट के समीप धरना प्रदर्शन कर रही महिला भू-रैयतों ने विरोध किया। जिसके बाद एनटीपीसी और प्रखंड प्रशासन के अधिकारियों ने आव न देखा ताव। विरोध कर रही महिला भू-रैयतों के साथ मारपीट शुरू कर दी। जिसमें कौशल्या देवी, मंजू देवी, कुर्मी देवी, चंपा देवी, सोनिया देवी व कैली देवी समेत करीब एक दर्जन महिलाएं घायल हो गई। जिन्हें एंबुलेंस के सहयोग से अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया है।
आंदोलित घायल महिलाओं ने कहा है कि जब तक उनकी मांगे पूरी नहीं होती वह काम नहीं होने देंगी। एनटीपीसी और प्रखंड प्रशासन द्वारा की गई इस कुकृत्य के बाद यह बड़ा सवाल उठता है कि आखिर अपने अधिकारों के लिए आंदोलित महिलाओं के साथ मारपीट की घटना को अंजाम देकर महिलाओं को यह कैसा सम्मान दिया गया है। उनके साथ मारपीट करने के बजाय उन्हें शांति पूर्वक समझाने का प्रयास क्यों नहीं किया गया।

Recent Posts

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
%d bloggers like this: