June 22, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

इग्नू में ऑनलाइन नामांकन की अंतिम तिथि 31जुलाई

इग्नू में ऑनलाइन एडमिशन को रह गए सिर्फ 15 दिन शेष,

बीए, बीकॉम, एमए व एमकॉम में चालू है ऑनलाइन एडमिशन

किशनगंज:- इंदिरा गांधी राष्ट्रीय खुला विश्वविद्यालय (इग्नू) के किसी भी कोर्स में ऑनलाइन नामांकन के लिए अब केवल 15 दिन ही शेष रह गए हैं। जुलाई, 2020 सत्र में ऑनलाइन एडमिशन के लिए 31 जुलाई अंतिम तिथि तय की गई है। इग्नू क्षेत्रीय केन्द्र, सहरसा के क्षेत्रीय निदेशक डॉ. मिर्ज़ा नेहाल अहमद बेग ने सभी अध्ययन केंद्रों को इस बाबत इत्तिला कर दी है।
बुधवार को मारवाड़ी कॉलेज स्थित इग्नू अध्ययन केन्द्र-86011 के समन्वयक डॉ. सजल प्रसाद ने यह जानकारी देते हुए कहा कि बारहवीं परीक्षा का रिजल्ट आने के बाद विद्यार्थियों के लिए इग्नू के त्रिवर्षीय बी.ए. (ऑनर्स) प्रोग्राम (बीएजी) के तहत इतिहास, अर्थशास्त्र, समाजशास्त्र, राजनीति शास्त्र, लोक प्रशासन, हिंदी, अंग्रेजी व उर्दू विषयों में ऑनलाइन एडमिशन के लिये यह सुनहरा मौका है।
उन्होंने कहा कि कॉमर्स पढ़ने को इच्छुक विद्यार्थी त्रिवर्षीय बी.कॉम.(ऑनर्स) प्रोग्राम (बीकॉमजी) में भी उनके सेंटर में एडमिशन ले सकते हैं। इसी तरह कला संकाय में हिंदी, अंग्रेजी, इतिहास, राजनीति शास्त्र विषयों में द्विवर्षीय एम.ए तथा वाणिज्य संकाय में द्विवर्षीय एम.कॉम. कोर्स में ऑनलाइन एडमिशन भी चालू है।
उन्होंने कहा कि कोविड-19 कोरोना वायरस के प्रकोप के बाद दूरस्थ शिक्षा पद्दति अत्यधिक प्रासंगिक हो चुकी है। अंतरराष्ट्रीय स्तर के विश्वविद्यालय की श्रेणी में शामिल इग्नू पाठ्य सामग्री (किताबें) सीधे विद्यार्थी के घर भेजती है। सभी कोर्स की पाठ्य सामग्री देश के विषय विशेषज्ञ विद्वानों के समूह द्वारा तैयार की जाती है।
डॉ. प्रसाद ने कहा कि सिलेबस की पाठ्य सामग्री ऐसी होती है कि घर बैठे कोई विद्यार्थी स्वयं शिक्षक बनकर ख़ुद को पढ़ा सकता है। इग्नू से ग्रेजुएट होकर न जाने कितने आईएएस और आईपीएस भी बने हैं और नौकरी में आने के बाद भी इन्होंने एमए की डिग्री ली है।
उन्होंने कहा कि इच्छुक विद्यार्थी इग्नू के उपलब्ध कोर्स में ऑनलाइन एडमिशन के लिए बढ़े हुए 15 दिनों का फायदा उठाएं, वरना वे चूक जाएंगे और उन्हें इग्नू के दूसरे सत्र का इंतज़ार करना होगा।

संवाददाता सुबोध

Recent Posts

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
%d bloggers like this: