करतारपुर कॉरीडोर के बाद पाकिस्तान ने सोमवार को हिन्दू तीर्थयात्रियों के लिए शारदा मंदिर कॉरिडोर खोलने का संकेत दिया है ।

शारदा मंदिर हिंदुओं के सबसे प्राचीन मन्दिरों में से एक है ,यह मंदिर 5000 हज़ार वर्ष पुराना है ।मंदिर के नज़दीक मदोमती नाम का एक तालाब है ।इस तालाब का पानी बहुत ही पवित्र माना जाता है। शारदापीठ L O C के नज़दीक शारदा गॉंव में स्थित है । शारदापीठ मार्तंग सूर्य मंदिर और अमरनाथ मंदिर समेत जम्मू कश्मीर के तीन प्रमुख मंदिरों में से एक था ।

माँ शारदा को कश्मीरी पंडित अपनी कुलदेवी मानते हैं ।इन्हें कश्मीरपुरा वासिनी ( कश्मीर में बसने वाली) भी कहा जाता है ।शारदापीठ कभी वैदिक शिक्षा का प्रमुख केंद्र हुआ करता था और इसकी तुलना नालन्दा-तक्षशिला जैसे केंद्रों से की जाती थी । 1947 के बंटबारे के बाद यह मंदिर निर्जन इलाके में तब्दील हो गया ।बिना उचित देख-रेख के भी यह मंदिर आज भी वैसे ही खड़ा है। कहा जाता है कि इस मंदिर का निर्माण कुषाण शासन में किया गया था ।

Leave a Reply

%d bloggers like this: