अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

स्वास्थ्य मंत्री की पहल पर खुला जुबली पार्क, मॉर्निंग वॉकर्स ने कहा- थैंक्यू

जमशेदपुर:- कोरोना काल में बंद पड़ा जुबली पॉर्क आज स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता के पहल पर कुछ जरूरी दिशा निर्देशों के साथ खोल दिया गया, इस अवसर पर उपायुक्त सूरज कुमार, जुस्को के कैप्टन धनंजय मिश्रा, मेजर डाँगा, सुकन्या दास, मॉर्निंग वॉकर्स ग्रुप के मुन्ना अग्रवाल, शिव शंकर सिंह समेत मॉर्निंग वॉकर्स लोग उपस्थित थे।
ओपन जिम, योगशिविर, साइकिलिंग और स्केटिंग की भी होगी व्यवस्था
मंत्री बन्ना गुप्ता ने बताया कि उनकी प्राथमिकता हैं कि जमशेदपुर शहर को देश के बेस्ट शहर के रूप में जाना जाए इसके लिए वे लगातार प्रयास कर रहे हैं, इसी क्रम में लोगों के स्वास्थ्य की रक्षा और सुरक्षा की जिम्मेदारी भी स्वास्थ्य मंत्री होने के नाते मेरी हैं।
उन्होंने बताया कि जुस्को के सहयोग से पार्क में ही ओपन जिम, योगशिविर, साइकिलिंग और स्केटिंग की व्यवस्था की जा रही हैं ताकि लोगों को विशेष तौर पर सुविधा मिल सके।
मॉर्निंग वॉकर्स क्लब ने कहा थैंक यू बन्ना जी
पार्क खोलने के लिए जब मंत्री बन्ना गुप्ता पहुंचे तो वहांमॉर्निंग वॉकर्स ग्रुप के लोग पहले से ही उनका इंतजार कर रहे थे उन्होंने पौधा देकर मंत्री बन्ना गुप्ता का स्वागत किया और पार्क खुलवाने के लिए उनको धन्यवाद दिया।
विशेष दिशा निर्देश का करना होगा पालन
पार्क सिर्फ मॉर्निंग वॉक और इवनिंग वॉक के लिए खोला गया है जिसमें 2 गेट खोले जाएंगे, पार्क प्रत्येक दिन सुबह 5 बजे से 9 बजे तक और फिर शाम को 4 बजे से 7 बजे तक खुला रहेगा।
बिना आईडी कार्ड के एंट्री नही मिलेगी
पार्क में जाने के लिए या तो डिजिटल आईडी कार्ड या फिर आईडी कार्ड साथ रखना होगा, बिना पहचान पत्र के घुसने की अनुमति नहीं मिलेगी, एंट्री के लिए पहचान पत्र दिखा कर कैमरे के सामने नाम बताना होगा ताकि यदि कोई बात हुई तो तुरंत पहचान कर आवश्यक कार्यवाई की जा सके।
मॉर्निंग वॉकर्स ग्रुप के लिए कमेटी बनाएं, हर संभव मदद करेंगे
मंत्री बन्ना गुप्ता ने इस अवसर पर उपायुक्त सूरज कुमार और जुस्को के धनंजय मिश्रा को निर्देश दिया कि मॉर्निंग वॉकर्स ग्रुप की एक कमेटी बनाने की पहल करें और उनको साथ लेकर आपसी सामंजस्य स्थापित करते हुए पार्क और जमशेदपुर की तरक्की के लिए कार्य करें, इसमें वे हर संभव मदद करने का प्रयास करेंगे।
आदमी के अन्दर जो खासियत होती ही वही कला है, मेरे नज़रिया से इसके अलावा कुछ और भी हो सकता है। हमारे देश मे बहुत तरह की चीजें बनाई जाती है।

%d bloggers like this: