June 21, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

वैक्सीन की अलग-अलग कीमत पर झामुमो बोला, यह पूंजीपतियों को लाभ पहुंचाने का तरीका

रांची:- झारखंड मुक्ति मोर्चा ने आरोप लगाया है कि देश में वैक्सीन की अलग-अलग कीमत पूंजीपतियों को लाभ पहुंचाने का तरीका है। इसके लिए केंद्र सरकार जिम्मेदार है। प्राइवेट अस्पतालों में वैक्सीन की चार से आठ गुना कीमत चुका वैक्सीन लगाने को मजबूर किए जा रहे देशवासी भी टैक्स भरते हैं। इसके बावजूद चुनिंदा कंपनियों को फायदा पहुंचाने के लिए देशवासियों के साथ अन्याय क्यों किया जा रहा है। ये संगठित लूट नहीं तो फिर क्या है ? यह बात झारखंड प्रदेश भाजपा के नेताओं को समझ में नहीं आती।

जनता के टैक्स से आने वाले पैसा का लाभ हम क्यों वैक्सीन निर्माताओं को पहुंचाएं। प्रतीत होता है कि यह इलेक्टोरल बांड के जरिए कमाई का प्लान है। सुप्रीम कोर्ट से लेकर हाई कोर्ट तक रोज कोस रहा है। झारखंड सरकार 175 करोड़ रुपये की लागत से 25 लाख कोविशिल्ड और 25 लाख कोवैक्सीन ले रही है। अगर केंद्र क्रय करती तो 175 करोड़ में दोनों के 50-50 लाख वैक्सीन आ जाते। भाजपा नेताओं पर तंज कसते हुए पार्टी ने कहा कि निश्शुल्क वैक्सीन की राज्य सरकार की मांग पर ये ऐसे प्रतिक्रिया व्यक्त कर रहे हैं, जैसे इन्हें अपनी जेब से पैसे भरने पड़ रहे हैं।_

निश्शुल्क वैक्सीन पर केंद्रीय मंत्री का पत्र, जल्द करेंगे फैसला

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डाॅ. हर्षवर्धन ने कहा है कि निश्शुल्क वैक्सीन पर जल्द फैसला लेंगे। राज्य सरकार के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता के पत्र के जवाब में उन्होंने यह भरोसा दिलाया है। मंत्री ने केंद्र सरकार से पूरे फ्री वैक्सीन देने का आग्रह किया है। मंत्री बन्ना गुप्ता ने बताया कि जब केंद्र सरकार ने बजट में 35 हजार करोड़ रुपये खर्च करने के लिए आवंटित किया था तो फिर आज क्यों तीन तरह की दर वैक्सीन के लिए लाए गए हैं। बजट भाषण में वित्त मंत्री ने और भाजपा नेताओं ने पांच राज्यों के चुनाव में मुफ्त वैक्सीन देने का चुनावी नारा बुलंद किया।

जब वैक्सीन देने की बारी आई तो केंद्र सरकार के लिए अलग, राज्य सरकार के लिए अलग और प्राइवेट संस्थाओं के लिए अलग रेट लागू कर दिए। गौरतलब है कि स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डाॅ. हर्षवर्धन को पत्र लिखकर पूरे देश में वैक्सीन के तीन रेट का विरोध किया था। पत्र में उन्होंने लिखा था कि झारखंड जैसे राज्य पर केंद्र सरकार को विशेष ध्यान देते हुए फ्री में वैक्सीन उपलब्ध कराना चाहिए था। इसी के जवाब में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने कहा है कि उनके बातों को संज्ञान में लिया गया है और जल्द सरकार इस पर निर्णय लेते हुए उन्हें सूचित करेगी।

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
%d bloggers like this: