अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

झामुमो विधायक लोबिन हेम्ब्रम ने हेमंत सरकार से शराब के मुद्दे पर उठाए सवाल


रांची:- झारखंड विधानसभा के शीतकालीन सत्र के अंतिम दिन एक ओर जहां विपक्षी पार्टियों ने सरकार की नीतियों पर सवाल उठाया, वहीं सत्त्तापक्ष की सीता सोरेन और लोबिन हेम्ब्रम ने भी अपनी ही सरकार को कठघरे में खड़ा काम करने का काम किया।
शीतकालीन सत्र के अंतिम दिन प्रश्नोत्तर काल के दौरान सत्तारुढ़ विधायक लोबिन हेम्ब्रम ने सरकार के मुखिया हेमंत सोरेन को ही निशाने पर ले लिया। लोबिन हेम्ब्रम ने कहा कि झारखंड मुक्ति मोर्चा सुप्रीमो शिबू सोरेन ने आजीवन नशामुक्ति के लिए काम किया और अब भी वे इसके लिए जागरूकता के प्रयास में जुटे, लेकिन हेमंत सरकार शराब बिकवाये, यह शर्मनाक हैं।
लोबिन हेम्ब्रम ने शिबू सोरेन आज भी वह समाज को नशे से दूर रहने रहने की सीख देते हैं, राज्य में उनके बेटे हेमंत सोरेन की सरकार है, ऐसे में यहां पड़ोसी राज्य छत्तीसगढ़ मॉडल पर शराब बेचने की शुरुआत करना शर्मनाक होगा। उन्होंने एक दैनिक समाचार पत्र में छपी खबर का जिक्र करते हुए कहा कि इस खबर के मुताबिक राजस्व बढ़ाने के मॉडल का अध्ययन करने के लिए एक टीम छत्तीसगढ़ गयी थी और उस टीम ने यह रिपोर्ट सौंपी है कि छत्तीसगढ़ मॉडल की तर्ज पर झारखंड में शराब की बिक्री करायी जाए, यह दुर्भाग्यपूर्ण है। विधायक ने कहा, “मैं शिबू सोरेन का चेला हूँ, शिबू सोरेन ने आदिवासी समाज सहित दूसरे समाज को भी शराब से दूर रखा। सरकार जो गलत काम करने जा रही है, वह मैं नहीं होने दूंगा।” विधायक लोबिन हेम्ब्रम के इस वक्तव्य पर विपक्षी भारतीय जनता पार्टी के विधायक ‘शेम-शेम’ के नारे लगाते रहे।

%d bloggers like this: