अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

झारखंड के युवाओं को सरकारी नौकरी में मिलेगी प्राथमिकता


जेएसएससी से अबं सिर्फ मुख्य परीक्षा के आधार पर होगी नियुक्ति
रांची:- झारखंड में युवाओं को सरकारी नौकरी में अब प्राथमिकता मिलेगी। झारखंड राज्य कर्मचारी चयन आयोग, जेएसएससी के माध्यम से अब सिर्फ मुख्य परीक्षा के आधार पर नियुक्ति होगी। प्रारंभिक परीक्षा की व्यवस्था अब खत्म कर दी गयी है।मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की अध्यक्षता में गुरूवार को हुई राज्य मंत्रिमंडल की बैठक में इस आशय के प्रस्ताव को मंजूरी प्रदान कर दी गयी। बैठक में कुल 27 प्रस्तावों को स्वीकृति दी गयी।
बाद में कैबिनेट सचिव वंदना दादेल ने बताया कि जेएसएससी की नयी नियुक्ति नियमावली के अनुसार आयोग अब दो अलग-अलग प्रारंभिक और मुख्य परीक्षा का आयोजन नहीं कर कर सिर्फ एक ही परीक्षा से नियुक्ति के लिए अनुशंसा करेगा। उन्होंने बताया कि पहला पेपर क्वालिफाइंग होगा,इसमें 30 फीसदी अंक लाना अनिवार्य होगा, लेकिन इसके अंक मेरिट में नहीं जुड़ेंगे। वहीं पेपर दो जनजातीय क्षेत्रीय भाषा का होगा। राज्य स्तरीय नियुक्ति के लिए जो परीक्षा ली जाएगी, उसमें
समें जनजातीय क्षेत्रीय भाषा के लिए 12 भाषाएं निर्धारित की गई हैं जिसमें 30 फ़ीसदी अंक लाना होगा वही पेपर 3 सामान्य ज्ञान का होगा इसमें भी 30प्रतिशत अंक लाना होगा यानी उम्मीदवारों को पेपर दो और पेपर 3 में अलग-अलग 30 फ़ीसदी अंक लाने होंगे तभी वह पास होंगे। इन्हीं पेपर पेपर दो और पेपर 3 के अंक जोड़कर फाइनल मेरिट लिस्ट तैयार किया जाएगा। झारखंड से मैट्रिक और इंटर पास लोगों को नियुक्ति में प्राथमिकता दी जायेगी। एक अन्य संशोधन के मुताबिक झारखंड कर्मचारी चयन आयोग से जिला स्तरीय जो नियुक्तियां होंगी उसमें जिला बार जो भाषाएं निर्धारित की गई हैं वहीं पेपर 2 के तहत चुनना होगा।
कार्मिक विभाग ने पिछले महीने तृतीय और चतुर्थ श्रेणी की नौकरियों में झारखंड से ही मैट्रिक व इंटर पास करनेवाले छात्रों को प्राथमिकता देने का प्रस्ताव तैयार किया था। कुछ राज्यों का हवाला देते हुए इस प्रस्ताव में कहा गया था कि नौकरियों में झारखंड से ही मैट्रिक और इंटर की परीक्षा पास करने वालों को नौकरी देने की व्यवस्था हो। ऐसा करने से झारखंड के युवाओं को अधिक से अधिक रोजगार देना संभव हो सकेगा।

%d bloggers like this: