राँची :- झारखंड के 12वें डीजीपी के रूप में श्री के एन चौबे ने शनिवार को पदभार ग्रहण किया। इससे पहले अधिकारियों ने उनका स्वागत किया। वहीं जवानों ने बैंड डिस्प्ले के साथ गार्ड ऑफ ऑनर दिया। डीजीपी ने परेड का निरक्षण किया। बताते चलें कि पदभार ग्रहण करने के बाद डीजीपी केएन चौबे दो दिवसीय के अवकाश में रहेंगे 11 जून से वो पूरी तरह कामकाज संभालेंगे। तत्कालीन डीजीपी डीके पांडेय का 31 मई को कार्यकाल खत्म होने के बाद। 1986 बैच के झारखंड कैडर के आइपीएस अधिकारी केएन चौबे को झारखंड का नया डीजीपी बनाया गया है। केंद्र से अनुमति मिलने के बाद शुक्रवार की शाम गृह विभाग ने इस संबंध में अधिसूचना जारी की गई थी।

दो साल का होगा कार्यकाल: चौबे जुलाई 2015 से केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर बीएसएफ में बतौर एडीजी अपनी सेवा दे रहे थे। केएन चौबे शनिवार को राज्य के 12वें डीजीपी के रूप में योगदान दिए इन्होंने आठ अगस्त 1986 को भारतीय पुलिस सेवा में योगदान दिया था। उनकी सेवा अवधि 21 अगस्त 2021 है। डीजीपी डीके पांडेय के रिटायर्ड होने के बाद इन्हें झारखंड के डीजीपी की कमान सौंपी गयी है।

मूल रूप से बिहार के कैमूर जिले के रहने वाले है डीजीपी केएन चौबे

केएन चौबे मूल रूप से बिहार के कैमूर जिला (भभुआ) के सुलतानपुर के निवासी हैं। श्री चौबे तीन भाइयों में दूसरे नंबर पर हैं। इनके बड़े भाई राजीव नयन चौबे आइएएस रहे हैं और वर्तमान में यूपीएससी के सदस्य हैं। श्री चौबे झारखंड में एडीजी जैप भी रहे हैं।

Leave a Reply

%d bloggers like this: