अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

कोरोना काल में झारखंड हाईकोर्ट ने सुने रिकॉर्ड 119253 मामले, 37172 केस का हुआ निबटारा

रांची:- कोरोना काल में वर्चुअल माध्यम से मुकदमों की सुनवाई की दिशा में बेहतरीन प्रयास किये गये, जिसका अच्छा रिजल्ट भी देखने को मिला। झारखंड हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस समेत अन्य न्यायाधीशों और ज्यूडिशियल सिस्टम की कोशिशों की बदौलत झारखंड हाईकोर्ट ने कोरोना काल की शुरुआत से अब तक 37172 मामलों को सुनवाई के बाद निष्पादित कर दिया है। वहीं लगभग 5367 इंटरलॉकेटरी एप्लिकेशन को भी हाईकोर्ट द्वारा निष्पादित किया गया है। यही नहीं, झारखंड हाईकोर्ट के सभी जजों ने अब तक 119253 मुकदमों को सूचीबद्ध कर वीसी के जरिये उनकी सुनवाई की है।
राज्य के महाधिवक्ता राजीव रंजन ने कोरोना काल में हाईकोर्ट द्वारा मुकदमों की सुनवाई एवं निष्पादन के आंकड़ों का स्वागत किया है। उन्होंने कहा है कि निश्चित तौर पर ये आंकड़े काफी बेहतर हैं. इसमें न्यायिक व्यवस्था के साथ झारखंड हाईकोर्ट के वकीलों, विशेषकर उन अधिवक्ताओं का अहम रोल है जिन्होंने अपने पक्षकारों के लिए न्यायालय के समक्ष बहस की।उन्होंने कहा कि केस निष्पादन में बार के वकीलों के साथ महाधिवक्ता कार्यालय के उन अधिवक्ताओं की भी महत्वपूर्ण भूमिका है, जिन्होंने छुट्टी के दिनों में भी न्यायिक कार्यों में हिस्सा लिया।
वहीं झारखंड स्टेट बार कौंसिल के अध्यक्ष राजेंद्र कृष्ण ने कहा है कि कोरोना की पहली और दूसरी लहर की भीषणता के बीच हाईकोर्ट न्यायाधीशों ने संभवतः रिकॉर्ड मामलों की सुनवाई वीसी के जरिये कर एक मिसाल पेश की है। कोरोना के संक्रमण के न्यायिक प्रक्रिया का बाधित न होना झारखंड हाईकोर्ट के लिए एक अचीवमेंट है। इसका श्रेय राज्यभर के अधिवक्ताओं को भी जाता है।

%d bloggers like this: