चतरा :- परिवहन विभाग को चुना लगाने एवं भ्रष्टाचार का आरोप झेल रहे सड़क सुरक्षा के व्यवसाय सलाहकार अंशु कुमार की सेवा वापस हो गयी है। आपको बताते चलें कि चतरा डीसी जितेंद्र कुमार सिंह ने भ्रष्टाचार के आरोप में चतरा परिवहन विभाग (सड़क सुरक्षा) सेल में कार्यरत व्यवसाय सलाहकार अंशु कुमार की सेवा वापस लिए जाने की अनुशंसा पत्रांक : 355 दिनांक 03 अप्रैल 19 के माध्यम से झारखंड सरकार के परिवहन सचिव से की थी। अनुशंसा किये जाने के पश्चात चतरा डीसी के पत्र पर गंभीरता पूर्वक विचार करते हुए झारखंड सरकार के परिवहन सचिव ने आरोपी कर्मचारी को सेवा मुक्त करने के लिए संयुक्त परिवहन आयुक्त (सड़क सुरक्षा) को निर्देश दिया। आदेश के आलोक मे संयुक्त परिवहन आयुक्त (सड़क सुरक्षा) ने पत्रांक : 157 दिनांक 02 मई 19 के द्वारा अंशु कुमार को नई दिल्ली की नियोक्ता कंपनी एसबीसी एक्सपोर्ट लिमिटेड को सेवा वापस कर दी है। पत्र की मूल कॉपी नियोक्ता कंपनी एसबीसी एक्सपोर्ट लिमिटेड नई दिल्ली के सीईओ प्रदीप नामदेव को भेजी गई है। जबकि पत्र की प्रतिलिपि डीसी चतरा, परिवहन विभाग चतरा एवं सड़क सुरक्षा सेल के (व्यवसाय सलाहकार) अंशु कुमार को भेजी गई है। ज्ञातव्य हो कि चतरा परिवहन विभाग के सड़क सुरक्षा सेल में पदस्थापना के बाद से ही अंशु कुमार पर भ्रष्टाचार के कई गंभीर आरोप लगने प्रारंभ हो गए थे। परिवहन विभाग में कर्मचारियों की कमी के कारण अंशु कुमार को दुर्घटनाओं में कमी लाने के अलावे विभाग में राजस्व वृद्धि की भी जिम्मेवारी सौंपी गई थी। अंशु कुमार पर आरोप है कि इन्होंने विभाग द्वारा दिये गए जिम्मेदारियों का निर्वहन नहीं किया और ट्रांसपोर्टरों का भयादोहन किया। खासकर कोयलांचल क्षेत्र पिपरवार औऱ टंडवा में बड़े पैमाने पर अंशु कुमार पर अवैध तरीके से धन उगाही का आरोप लगा है। अंशु कुमार के रवैये से परिवहन विभाग के साथ-साथ जिला प्रशासन की भी काफी बदनामी हो रही थी। लगातार मिल रही शिकायतों के बाद बाध्य होकर चतरा डीसी जितेंद्र कुमार सिंह ने झारखंड सरकार के परिवहन सचिव को विवादास्पद कर्मचारी अंशु कुमार की सेवा वापस करने का अनुशंसा किया था।

Leave a Reply

%d bloggers like this: