रांची:- झारखंड के मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन के नेतृत्व में राज्य के किसानों को अनवरत किसान क्रेडिट कार्ड से आच्छादित करने की प्रक्रिया चल रही है।
कृषि पशुपालन एवं सहकारिता विभाग की निदेशक निशा उरांव ने आज बताया कि इसका प्रतिफल है कि 15 सितंबर 2022 तक 19,18,511 केसीसी धारक राज्य में हो गए हैं। जबकि सितंबर 2021 के बाद 5,34,331 नए केसीसी को स्वीकृति दी गई है। यह किसान क्रेडिट कार्ड (केसीसी) राज्य के किसानों के लिए वरदान साबित हुआ है। केसीसी के माध्यम से किसानों को खेती के लिए आसान ब्याज दर पर ऋण उपलब्ध कराया जा रहा है। इससे जहां किसानों को खेती में सहायता मिल रही है वहीं उन्हें साहूकारों के चंगुल से भी मुक्ति मिल रही है। वर्तमान सरकार के प्रयास से कृषि ऋण में लगातार सुधार हो रहा है। यही वजह है कि राज्य गठन के बाद से दिसंबर 2019 तक मात्र 409 करोड़ रुपए किसानों के बीच वितरित किए गए। जबकि वर्तमान सरकार द्वारा 900 करोड़ रुपए से अधिक स्वीकृत किया गया।
कृषि निदेशक ने बताया कि केसीसी के तहत जून 2021 में 420.74 करोड़, अगस्त 2021 में 581.53 करोड़, अक्टूबर 2021 में 685.16 करोड़, दिसंबर 2021 में 914.2 करोड़ एवं अप्रैल 2022 में 1313.36 करोड़ की राशि बैंक द्वारा स्वीकृत की गई है। वहीं अप्रैल 2022 में 17.76 लाख, सितंबर 2022 में 19.50 लाख किसानों को केसीसी प्रदान किया गया। दिसंबर 2022 तक 22.50 लाख एवं मार्च 2023 तक 25.50 लाख किसानों को केसीसी प्रदान करने का लक्ष्य निर्धारित किया है।

Leave a Reply

%d bloggers like this: