अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

जन धन योजना ने बदल दिया भारत का भविष्य, देश ने लगाई 70 साल की छलांग : गिरिराज सिंह


बेगूसराय:- प्रधानमंत्री जन धन योजना का सात साल पूरे होने पर केंद्रीय ग्रामीण विकास और पंचायती राज मंत्री और बेगूसराय के सांसद गिरिराज सिंह ने इसे भारत का भविष्य बदलने वाला योजना बताया है।
गिरिराज सिंह ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दूरदर्शी ऐतिहासिक निर्णय ने भारत का भविष्य बदल दिया। प्रधानमंत्री जन धन योजना के माध्यम से गरीबों को सम्मान मिला है। आर्थिक आजादी, बिचौलियों से मुक्ति मिली और बैंक से जुड़ने का सपना पूरा हुआ है, बीमा, सब्सिडी, पेंशन और सम्मान निधि का फायदा मिला है। इन सात सालों में भारत ने 70 साल की छलांग लगाई। गिरिराज सिंह ने कहा है कि इस सात साल में बैंकिंग सेवा काफी सुलभ हो गई है, करीब 98 प्रतिशत गांव में बैंकिंग की सुविधा पहुंच गई। वंचितों को बैंकिंग सुविधा का लाभ मिलने लगा, औपचारिक बैंकिंग प्रणाली से 45 करोड़ लाभार्थी जुड़े। अक्टूबर 2019 में 11 हजार 278 गांव बैंकिंग सुविधा से वंचित था, लेकिन अब जुलाई 2021 तक मात्र 256 गांव बैंकिंग सुविधा से वंचित हैं। मार्च 2015 में बैंकिंग सेवा से जुड़ने वालों की संख्या जहां 15 करोड़ थी, वहीं जुलाई 2021 में यह संख्या 43 करोड़ पर पहुंच गई। इसके साथ ही प्रधानमंत्री जनधन योजना ने असुरक्षित को बीमा की सुरक्षा दिया। मार्च 2016 में मात्र पांच हजार 530 लोग को दुर्घटना बीमा का लाभ मिला था, लेकिन प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना के तहत अगस्त 2021 तक 87 हजार 226 से अधिक लाभार्थियों को दुर्घटना बीमा का लाभ मिला। इस योजना में आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग को सुरक्षा प्रदान किया है। मार्च 2016 में 41 हजार 437 लोग इससे लाभान्वित थे, जबकि मोदी सरकार द्वारा शुरू किए गए प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना के तहत अगस्त 2021 तक चार लाख 92 हजार 127 लोगों को बीमा सेवा से जोड़ा गया है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री जन धन योजना के कारण अधिक से अधिक लोग बैंकिंग सेवा का लाभ ले रहे हैं। जन धन योजना के खाते में डीबीटी के माध्यम से गैस का सब्सिडी मिल रहा है, किसान सम्मान योजना का लाभ मिल रहा है। कोरोना काल में सरकार की ओर से महिलाओं को उनके जन धन योजना के खाते में मदद मिला। मुफ्त में बैंकिंग सेवा से जुड़ने के बाद जब सरकारी सुविधा मिली तो लोगों में बचत की आदत भी पड़ी है।

%d bloggers like this: