अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

आयरोनिक कार्टन मॉडल मिट्टी का कटाव रोकने में कारगर


भागलपुर:- गंगा नदी से सटे दियारा क्षेत्रों में हर साल आने वाल बाढ़ की त्रसादी को रोकने के लिए जीवन जागृति सोसायटी के अध्यक्ष सह शिशु रोग विशेषज्ञ डा. अजय सिंह ने उन घरों को कटाव से बचाने के लिए नया प्रयोग किया हैं। यह प्रयोग साकारात्मक परिणाम दे रहा है। डॉ अजय सिंह ने बताया कि गंगा कटाव को रोकने के लिए बालू भरे बोरे का इस्तेमाल कारगर नहीं है। कटाव रोकने के लिए हर साल करोड़ों रुपये खर्च होने के बावजूद भी कटाव पर नियंत्रण नही हो पाता है।
संस्था के अध्यक्ष डा. सिंह ने कटाव रोकने के लिए पहले लोहे का पिंजड़ा मॉडल का प्रयोग किया, जो अच्छा साबित हो रहा लेकिन यह प्रक्रिया जटिल है। फिर उन्होंने कार्टन मॉडल तैयार किया। यह लोहे के फ्रेम में लोहे के जाली लगाकर इस के सतह पर प्लास्टिक की चटाई लगाकर उसे एक पर्दा बना दिया और उसे नवगछिया अनुमंडल के रंगरा प्रखंड में कोसी किनारे स्थित बड़ी बैसी में कोसी नदी के तेज जल प्रवाह से कटते किनारे में लगा दिया और तार के सहारे खूंटे से बांध दिया। अब पानी उस चटाई से टकराती है लेकिन टकराने के बाद पानी का धार खत्म हो जाता है। जिससे मिट्टी का कटाव रुक जाता है। इस तकनीक को उन्होंने 2 माह पूर्व जहां लगाया था। वहां के ग्रामीणों के मुताबिक इस तकनीक के इस्तेमाल के बाद से वहां एक इंच भी मिट्टी का कटाव नहीं हुआ है। डॉ. अजय सिंह ने इस तकनीक का नाम आयरोनिक कार्टन मॉडल रखा है। उन्होंने ग्रामीणों को इस प्रयोग में सहयोग करने के लिए साधुवाद भी दिया। परीक्षण के आकलन के मौके पर पूर्व सरपंच अब्दुल गफ्फार, मो नियाज अख्तर, अताबुल, इस्तेखार, मो अंसार, राकेश, अखिलेश सहित बड़ी संख्यां में ग्रामीण मौजूद थे।

%d bloggers like this: