अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

शिक्षक सम्मान समारोह में शामिल होने के लिए 10 राज्यों के बुद्धिजीवी पहुंचेंगे


रांची:- प्राइवेट स्कूल एंड चिल्ड्रेन वेलफेयर एसोसिएशन (पासवा) और एनएसएस रांची विश्वविद्यालय की ओर से संयुक्त रूप से आगामी 11 सितंबर को आयोजित शिक्षक सम्मान समारोह की तैयारियों का जायजा लेने के लिए पासवा के राष्ट्रीय अध्यक्ष शमायल अहमद ने रांची विश्वविद्यालय के आर्यभट्ट सभागार का निरीक्षण किया। उन्होंने सम्मान समारोह की तैयारियों को लेकर सभी पदाधिकारियों को अलग-अलग जिम्मेवारियां सौंपी।
इस मौके पर संवाददाता सम्मेलन में पासवा के राष्ट्रीय अध्यक्ष शमायल ने कहा कि पासवा झारखंड इकाई और एनएसएस रांची विश्वविद्यालय के संयुक्त तत्वावधान में कल 11 सितंबर को शिक्षक सम्मान समारोह में 500 से अधिक शिक्षकों और प्राइवेट स्कूल संचालकों को सम्मानित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि इस समारोह में हिस्सा लेने के लिए देश के दस राज्यों के प्रतिनिधि भी रांची पहुंच रहे है। पासवा के पदाधिकारी जिन राज्यों में शिक्षक सम्मान समारोह होता है, वहां शिक्षकों का हौसला बढ़ाने के लिए पहुंचते है। देशभर में पासवा से दो लाख से अधिक प्राइवेट स्कूल जुड़े है और प्रतिवर्ष शिक्षकों को सम्मानित किया जाएगा।
उन्होंने बताया कि केंद्र सरकार की ओर से कोरोना काल में 2 लाख करोड़ रुपये का आर्थिक पैकेज जारी किया गया, लेकिन समें से 0.001 प्रतिशत भी निजी स्कूलों को नहीं दिया गया, लेकिन प्राइवेट स्कूलों को हर वर्ष बीमा, स्कूल बस का शुल्क देना पड़ता है,लेकिन कोरोना काल में बस खड़ी रही, परंतु टैक्स में भी छूट नहीं दिया गया, स्कूलों में पंखा नहीं चला, लेकिन बिजली बिल की वसूली हुई। दूसरी तरह इस संकट की घड़ी में निजी स्कूलों ने ही ऑनलाइन शिक्षा के माध्यम से बच्चों को पढ़ाने का काम किया, प्राइवेट स्कूल में बड़ी-बड़ी हस्तियों के बच्चे पढ़ते है, इसके बावजूद निजी स्कूल के साथ असहयोग की भावना रहती है। शमायल अहमद ने कहा कि झारखंड में शिक्षा का अधिकार कानून के तहत साजिश के तहत बदलाव कर दिया गया,इस प्रावधान को खत्म कर प्राइवेट स्कूल संचालकों को जमीन के मुद्दे पर राहत दिलाने के लिए राज्य सरकार से बात चल रही है। पासवा के प्रतिनिधियों ने इस संबंध में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन और वित्त मंत्री डॉ0 रामेश्वर उरांव को भी अवगत कराया है। वहीं नर्सरी से आठवीं कक्षा तक स्कूल खोलने के मसले पर भी राज्य सरकार की ओर से जल्द निर्णय लेने का भरोसा दिलाया गया है।
इस मौके पर पासवा के प्रदेश अध्यक्ष आलोक कुमार दूबे ने कहा कि राज्य के वित्त तथा खाद्य आपूर्ति डॉ0 रामेश्वर उरांव शिक्षक सम्मान समारोह के उद्घाटनकर्ता के रूप में मौजूद रहेंगे, जबकि मुख्य अतिथि के रूप में राज्य के ग्रामीण विकास मंत्री आलमगीर आलम और पासवा के राष्ट्रीय अध्यक्ष शमायल अहमद उपस्थित रहेंगे।
पासवा के उपाध्यक्ष लाल किशोरनाथ शाहदेव ने बताया कि सम्मान समारोह में पासवा के राष्ट्रीय अध्यक्ष शमायल अहमद के अलावा पासवा ओडिशा की चेयरमैन चिदातमका खुटुआ, पश्चिम बंगाल की अध्यक्ष मुसदा याशमीन के अलावा तमिललाडु के चेयरमैन बेलाल नख्तर, महाराष्ट्र की महासचिव डॉ0 जयश्री , उत्तर प्रदेश की चेयरमैन पूनम वर्मा, राजस्थान के महासचिव रेहान खान भी मौजूद रहेंगे।
पासवा के प्रदेश महासचिव डॉ0 राजेश गुप्ता छोटू ने कहा कि जिस तरह से प्राइवेट स्कूल के शिक्षकों ने कोरोना काल में करीब 18 महीने तक स्कूल बंद रहने के बावजूद इंटरनेट और मोबाइल तथा अन्य माध्यमों से छोटे-छोटे बच्चों को शिक्षा देने की कोशिश की, उसकी जितनी भी प्रशंसा की जाए कम होगी। इसलिए पासवा ने शिक्षकों के सम्मान में समारोह आयोजित करने का निर्णय लिया है। 11 सितम्बर का शिक्षक सम्मान समारोह सबसे भव्य और अलग राज्य बनने के बाद अबतक का सबसे बड़ा शिक्षक सम्मान समारोह होगा।

%d bloggers like this: