अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

मुख्यमंत्री गलती स्वीकारने वाले जेपीएससी पर कार्रवाई करने के बजाय जाति धर्म का कार्ड खेल रही है – देवेंद्र नाथ महतो


रांची:- झारखंड लोक सेवा आयोग, जेपीएससी द्वारा आयोजित 7वीं से 10वीं सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा में अनियमिता का आरोप लगाते हुए विभिन्न छात्र संगठनों और अभ्यर्थियों का पिछले 50 दिनों से आंदोलन जारी है।
झारखंड स्टेट स्टूडेंट्स यूनियन के अध्यक्ष देवेंद्रनाथ महतो ने रविवार को पत्रकारों से बातचीत में कहा कि झारखंडियों को झारखंड में स्थापित करने का नाम से सत्ता में बैठकर झारखंडी खतियान धारी आदिवासी मूलवासी को झारखंड से बाहर और गैर झारखंडी को झारखंड में स्थापित करने में जुटी हुई है ।
उन्होंने बताया कि कल 21 दिसंबर को जेपीएससी आयोग का दिन के 12 बजे राजभवन के समक्ष से हरमू मुक्ति धाम तक विधि विधान से जेपीएससी शव यात्रा कार्यक्रम निकाला जायेगा और मुक्ति धाम में अंतिम दाह संस्कार किया जायेगा। मौके अध्यक्ष देवेंद्र नाथ महतो महासचिव मनोज यादव ने झारखंड मुक्ति मोर्चा के 12 वां महाधिवेशन को संबोधन करते हुए जेपीएससी आंदोलनकारियों को बाहरी और जेपीएससी आयोग को सही ठहराने का बात को पलटवार करते हुए कहा कि झामुमो झारखंडी खतियान धारी आदिवासी मूलवासी को स्थापित करने अबुआ दिशुम आबुआ राज स्थापित करने का नाम से सत्ता में बैठकर विपरीत काम झारखंडी आदिवासी मूलवासी खतियान धारी को बाहर और गैर झारखंडी बाहरी को झारखंड में स्थापित करने का काम कर रही है, जेपीएससी में गड़बड़ी हुई है इस बात का जेपीएससी सार्वजनिक रूप से स्वीकार भी किया है कि बिना कॉपी जांच किए सेटिंग गेटिंग से पास कर दिया था जिसे आंदोलन के परिणामस्वरूप बाहर भी किया गया ये गड़बड़ी तो नमूना मात्र है तो अब झारखंड के छात्रों के न्याय को देखते हुए जांच और सबूत का बात ना करते हुए अब सीधे परीक्षाफल को रद्द किया जाना चाहिए।
साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि अगर जेपीएससी सही है तो परीक्षाफल के 49 दिन बीतने के बावजूद पब्लिक डोमेन में ओ एम आर अपलोड क्यों नहीं किया जा रहा है, और अगर सरकार सही है तो फिर जेपीएससी पर जांच कराकर करवाई क्यों नहीं कर रही है, सरकार जेपीएससी पर कार्रवाई करने के बजाय जाति, धर्म, बाहरी भीतरी का कार्ड खेल रही है। दो वर्षो तक एक स्थानीय नीति नहीं बना सके और बाहरी भीतरी जाति धर्म का कार्ड खेल रहें है,आज जेपीएससी आंदोलनकारी झारखंड का पहचान अपना खतियान दिखा रहें रहें है सरकार अपना अधिकारी कर्मचारी से जांच कराए और ये भी जांच कराकर बताया जाय कि वर्तमान सरकार में बनाया गया कि जेपीएससी जेपीएसएससी के अध्यक्ष सचिव और सदस्य कहां के रहने वाले हैं? और सभी का झारखंडी का पहचान खतियान भी सार्वजनिक किया जाय।

%d bloggers like this: