अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

भारत ग्रेटर माले कनेक्टिविटी प्रोजेक्ट के लिए देगा अतिरिक्त 1.5 करोड़ डॉलर की मदद


माले:- भारत ने मालदीव में 6.74 किलोमीटर लंबे थिला-माले पुल के निर्माण के लिए अतिरिक्त 1.5 करोड़ डॉलर की सहायता देने का निर्णय लिया है, जो माले और आसपास के द्वीपों विलिंगली, गुल्हिफाल्हू और थिलाफुशी काे जोड़ता है। इस अनुदान का उपयोग परियोजना के लिए आवश्यक श्रम और सामग्री उपलब्ध कराने के लिए किया जायेगा। भारत ने पहले इंडियन एक्जिम बैंक के माध्यम से इस परियोजना को शुरू करने के लिए छह करोड़ डॉलर जारी किये थे। यह दूसरी बार है जब मालदीव में पानी के ऊपर बनाये जाने वाले पुल के विकास का वित्त पोषण भारत कर रहा है।
भारत ने ग्रेटर माले कनेक्टिविटी प्रोजेक्ट नामक इस परियोजना के लिए 10 करोड़ डॉलर की अनुदान सहायता और 40 करोड़ डॉलर का अतिरिक्त ऋण दिया है।
आवश्यक सर्वेक्षण करने के लिए भारत के एफ्कॉन्स इंफ्रास्ट्रक्चर के साथ 26 अगस्त को एक समझौते पर हस्ताक्षर किये गये थे। परियोजना का व्यावहारिक कार्य अगले साल की शुरुआत में शुरू होने की उम्मीद है, लेकिन यह संभावना नहीं है कि काम वर्तमान राष्ट्रपति के कार्यकाल तक समाप्त हो जायेगा।
योजना मंत्रालय के अनुसार, ग्रेटर माले कनेक्टिविटी प्रोजेक्ट माले के दक्षिण-पश्चिम कोने से 6.7 किमी का समुद्री क्रॉसिंग लिंक है, जो विलीमले के दक्षिणी किनारे से सटा हुआ है। मुख्य पुल घटक 1.4 किमी लंबा होगा। माले-विलेमले जंक्शन पर ट्रैफिक लाइट लगायी जाएगी, जबकि थिलाफुशी-गुल्हिफल्हू जंक्शन पर एक गोलंबर चौराहा होगा। पुल पर रोशनी सौर ऊर्जा से संचालित होगी। परियोजना के दो साल में पूरा होने की उम्मीद है।
माले में भारतीय उच्चायोग ने ट्वीट कर कहा, “ग्रेटर माले कनेक्टिविटी प्रोजेक्ट के निर्माण कार्य के लिए आज 1.5 करोड़ डॉलर का अनुदान जारी किया गया। भारत मालदीव की इस परियोजना के जल्द से जल्द क्रियान्वयन के लिए प्रतिबद्ध है।”

%d bloggers like this: