May 7, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

भारत बायोटेक और सीरम इंस्टीट्यूट 15मई के बाद ही उपलब्ध कराएगी 50 लाख वैक्सीन- स्वास्थ्य मंत्री

1 करोड़ 57 लाख लोगों का टीकाकरण मुश्किल, सिर्फ 2500 रेमेडिशिविर इंजेक्शन उपलब्ध

रांची:- झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने गुरुवार को केंद्र सरकार पर जमकर निशाना साधा। मंत्री बन्ना गुप्ता ने इस दौरान झारखंड की जनता के साथ केंद्र पर भेदभाव करने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि एक देश एक विधान और एक संविधान का नारा देने वाली भाजपा सरकार ने पैसों के लिए जीवन रक्षक वैक्सीन को तीन कैटेगरी में बांट दिया है। चुनावी भाषणों में फ्री वैक्सीन का दावा करने का वायदा भी जुमला साबित हुआ।
स्वास्थ्य मंत्री ने आज रांची के एनएचएम में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि कोविड-19 का यह दूसरा चक्र पहले चक्र के मुकाबले बेहद घातक है। इस चक्र के रोकथाम और इलाज का अभी एकमात्र विकल्प वैक्सीनेशन ही है। उन्होंने बताया कि मोदी जी ने 1 मई से 18 साल से 44 साल के लोगों को वैक्सीन लगाने की घोषणा तो कर दी है लेकिन वैक्सीन के वितरण में राजनीति कर रही हैं।
स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने कहा कि 2020-21 के बजट में केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने देश में वैक्सीन के लिए 35000 करोड़ की राशि का प्रावधान किया है तो क्या कारण हैं कि अब 18 साल से ऊपर के लोगों के वैक्सीन देने के लिए राज्य सरकार से रुपए मांग रही हैं और आज वैक्सीनेशन के नाम पर 3 तरह से टैरिफ राज्य सरकार के माथे पर थोपा जा रहा है। उन्होंने आरोप लगाया है कि कोविड महामारी के समय केंद्र सरकार राज्यों के साथ राजनीतिक छल और प्रपंच रच रही है। राज्य सरकार के साथ केंद्र सरकार की नाइंसाफी है।
बन्ना गुप्ता ने कहा कि राज्य सरकार 18 साल से ऊपर और 44 साल तक के लोगों को फ्री में टीकाकरण करने की तैयारी कर चुकी हैं, 2229 से ज्यादा टीकाकरण केंद्र तैयार हैं, राज्य सरकार ने 25 लाख भारत बायोटेक से और 25 लाख सीरम इंस्टीट्यूट से वैक्सीन ऑर्डर कर दिया है । लेकिन दोनों कम्पनियों ने बताया है कि केंद्र सरकार भारत बायोटेक से 10 करोड़ और सीरम इंस्टीट्यूट से 2 करोड़ का एडवांस बुकिंग कर रखा हैं जिस कारण झारखंड को 15 मई के बाद ही वैक्सीन उपलब्ध हो सकता हैं। ऐसी परिस्थिति में झारखंड सरकार अपने 1 करोड़ 57 लाख लोगों का टीकाकरण कैसे करवा पाएंगे?
बन्ना गुप्ता ने कहा कि दुनिया का हीरो बनने के चक्कर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दूसरे देशों को वैक्सीन भेज है, लेकिन अपने देश में वैक्सीन की पूर्ति नहीं कर पा रहे है। बन्ना गुप्ता ने कहा कि चुनावी भाषणों में पाकिस्तान को गाली देने वाले नरेंद्र मोदी ने पाकिस्तान को 45 लाख डोज दिया. भूटान को 25 लाख डोज दिया, लेकिन इस पिछड़े और गरीब राज्य को वैक्सीन, रेमडेसिविर और दवाई देने के लिए केंद्र सरकार के पास नहीं है।
परिस्थिति ऐसी है कि आज झारखंड के पास सिर्फ 2500 रेमेडिशिविर इंजेक्शन हैं। वहीं 2 हजार रेमडेसिविर असम से उधार लिया है। उन्होंने कहा कि प्रतिदिन हमे 4 हजार रेमेडिशिविर की आवश्यकता हैं। जबकि पिछले 10 दिनों में महज 20 हजार रेमडेसिविर झारखंड को अलाउड हुआ है, जो झारखंड के साथ नाइंसाफी हैं।
बन्ना गुप्ता ने कहा कि जियो और जीने दो के सिद्धांत को मानते हुए हमनें भाजपा शासित राज्यों के अलावे देश के कई राज्यों को ऑक्सीजन दे रहे हैं, तो हम भी अन्य राज्यों से अपील करेंगे कि वह झारखंडीयों की जरूरत का ख्याल रखें और उनके स्वास्थ्य और सेहत का ख्याल रखें। उन्होंने कहा कि राज्य में सरप्लस ऑक्सीजन हैं इसलिए राजधर्म निभाते हुए हम दूसरे राज्यों को ऑक्सीजन देकर मानवीय मूल्यों और संवेदनशील हृदय के साथ सहयोग कर रहे हैं जबकि ठीक उल्टा केंद्र सरकार राज्यों के ऊपर वैक्सीन का बोझ थोप रही हैं।
उन्होंने कहा कि रेमडेसिविर समेत अन्य मेडिकल उपकरणों और दवाइयों के कालाबाजारी करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी, विगत दिनों कालाबजारी कर रहे दुकानों को सील किया गया है,रिंग्स में बेड बेचने वालों के खिलाफ कानूनी कार्यवाई करते हुए जेल भेजा गया हैं। उन्होंने ऐसे कार्यो में लिप्त लोगों को चेतावनी देते हुए कहा कि इनलोगों को चिह्नित कर जेल भेजने का निर्देश दिया गया है।
स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि हमें राज्य की जनता की फिक्र हैं इसलिए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन से अनुरोध हैं कि जल्द से जल्द झारखंड वैक्सीन उपलब्ध कराए ,बदले में राज्य सरकार पैसा भुगतान करने के लिए तैयार हैं क्योंकि हमारी प्राथमिकता राज्य के लोगों की जान बचाना हैं।

Recent Posts

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
%d bloggers like this: