अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

आईएआरसी का स्थापना दिवस समारोह सम्पन्न, पौध रोपण और पौधा वितरण

हजारीबाग:- कृषि विज्ञान केन्द्र (केवीके) हजारीबाग परिसर में 16 जुलाई शुक्रवार को भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद् ( आईएआरसी) का स्थापना दिवास मनाया गया। इस अवसर पर संस्थान के कृषि वैज्ञानिक सहित कृषकों ने भाग लिया। मौके पर मौजूद कृषकां को केन्द्र के वरीय वैज्ञानिक सह अध्यक्ष डॉ0 आर0के0 सिंह ने किसानों को संबोधित करते हुए ये बताया कि हमारे देश में कृषि अनुसंधान एवं कृषि के क्षेत्र में किसानों को नई प्रणाली एवं अत्याधुनिक कृषि तकनिक से जोड़ते हुए किसानों को आगे बढ़ने में भारतीय कृषि अनुसंधान परिसद का महत्वपूर्ण योगदान है। उन्होंने ने किसानों को कृषि की आधुनिक तकनिक का फायदा उठाने एवं कृषि के विभिन्न आयामों अपनाते हुए आत्मनिर्भर बन देश के विकास में योगदान देने का आह्वान किया।
आईएआरसी स्थापना दिवस के अवसर पर किसानों को शुभकामना देते हुए कृषि के साथ पर्यावरण पर बल दिया। उन्होंने किसानों से समेकित कृषि को अपनाते हुए जैविक कृषि, जीन बैंक प्रणाली, पशुपालन, बागवानी आदि को अपना कर आत्मर्निभर बनने की सलाह दी। वहीं केन्द्र के वैज्ञानिक डॉ0 पुष्पेन्द्र कुमार घाकड़ ने भी किसानों के साथ संवाद करते हुए भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद् के माध्यम से किसानों को मिलने वाली तकनीकि ज्ञान के बारे में विस्तृत से बताया।
इस असवर पर कृषि विज्ञान केन्द्र की ओर से संस्थान के निदेशक, वैज्ञानिकों के द्वारा महिला किसानों के बीच आम एवं नीम के पौधों का वितरण किया गया। कार्यक्रम में केन्द्र के प्रत्यक्षण क्षेत्र में आम का पौधारोपण किया गया।
मौके पर केन्द्र के वरीय वैज्ञानिक द्वारा बताया गया गया कियह स्थापना दिवस कार्यक्रम झारखण्ड सहित पूरे देश में मनाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि निदेशक डॉ0 अंजनी कुमार (बिहार झारखण्ड) के मार्गदर्शन से बिहार झारखण्ड को तीन नेशनल अवार्ड भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद् के द्वारा मिला जो कि एक बड़ी उपलब्धी हमारे किसानों एवं संस्थाओं के लिए है।
इस स्थापना दिवस समारोह में कृषि वैज्ञानिक, किसान, मौसम विभाग के प्रर्वेक्षक, पशुपालन वैज्ञानिक, इफको कंपनी के प्रतिनिधि सहित बड़ी संख्या महिला किसानों ने भाग लिया ।

%d bloggers like this: