January 28, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

हेमन्त सरकार की विफलता राज्य को 20 वर्ष पीछे ले जाएगी: नीरा यादव

कोरोना काल मे शिक्षा व्यवस्था हुई फेल, राज्य सरकार तंत्र तैयार करने में हुई असफल

रांची:- कोडरमा विधायक व पूर्व मंत्री नीरा यादव ने हेमन्त सरकार के एक वर्ष के कार्यकाल को जीरो नंबर देते हुए कहा कि इस सरकार में अंधेर नगरी चौपट राजा वाली कहावत फिट बैठता है। राज्य में शिक्षा व्यवस्था की स्थिति बद से बदत्तर हो चला है। कोरोना काल में ऑनलाइन क्लास की व्यवस्था, दीदी किचन, आंगनबाड़ी पूर्ण रूप से फेल रही। मिड डे मिल में बड़ा घोटाला हुआ। जबकि शिक्षा मंत्री के बीमार होने के कारण शिक्षा विभाग मुख्यमंत्री खुद देख रहे थें, बावजूद कोई कार्य नहीं हुआ।
नई शिक्षा नीति पर चर्चा करने के बजाए विरोध में समय गंवा दिया। 10वीं कक्षा की पढ़ाई मुश्किल से शुरू हुआ किन्तु स्कूलों में न ही सफाई और न ही सेनेटाइज किया गया। उन्होंने कहा कि पूर्व की रघुवर सरकार ने उच्च शिक्षा, माध्यमिक और प्राइमरी स्तर के स्कूलों में जो कार्य हुआ आज हेमन्त सरकार उसे आगे बढ़ाने में अक्षम साबित हुई है।

उन्होंने कहा कि हेमन्त सरकार महिला विरोधी सरकार है जिसका स्पष्ट उदाहरण है रामगढ़ महिला इंजिनयरिंग कालेज को जेनरल बनाना, महिला शोषण, बढ़ते दुष्कर्म, अपराधियों में कानून व्यवस्था का भय समाप्त होना। राज्य की महिलाएं खुद को ठगा महशुश कर रही है। एक वर्ष पूरे होने पर विकास कार्य का ढोल पिट रही है जबकि हकीकत यह है कि सभी योजनाएं रघुवर सरकार के कार्यकाल में पूरे किए गए थें। उन्होंने कहा मुख्यमंत्री के पास सबसे ज्यादा विभाग होने के कारण विकास का कार्य रुका है। रघुवर काल में प्रत्येक मंगलवार को कैबिनेट की बैठक होती थी जबकि सरकार में कैबिनेट की बैठक नदारद के बराबर है।
उन्होंने कहा कि इस सरकार में हेमंत है तो अपराधियों में हिम्मत है की कहावत चरितार्थ हो रही है।

भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश कार्यालय में पत्रकारों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि रघुवर काल में पारा शिक्षकों के लिए जो फैसले लिए गए, शिक्षा की बेहतरी के लिए जो रोड मैप बनाया गया, स्कूलों में आयरन की गोली, मध्यान भोजन, सेनेटरी नैपकिन आदि कार्य रोक दिया गया। ड्रॉपआउट रोकने के लिए स्कूलों को उत्क्रमित करना, बच्चों को बैठने के लिए बेंच – डेस्क, बिजली, पानी, कंप्यूटर, की व्यवस्था, महिला पुरुष हेतु अलग-अलग शौचालय का निर्माण, स्थानीय भाषाओं को बढ़ावा, बाल समागम, शिक्षक समागम जैसे कार्य इस हेमन्त की सरकार में नहीं हो पाया।

उन्होंने कहा कि इंदिरा गांधी विद्यालय के तर्ज पर कई विद्यालय शुरू किया गया, पुस्तकालय निर्माण का कार्य, आकांक्षा कार्यक्रम के तहत इंजीनियरिंग और मेडिकल कॉलेज में सफलता हेतु ट्यूशन की व्यवस्था, 11 जिलों में महिला महाविद्यालय की शुरुआत, 12 जिलों में मॉडल डिग्री महाविद्यालय की शुरुआत जैसे कई कार्यक्रम रघुवर सरकार में हुआ। किंतु उपरोक्त सभी योजनाओं को रोक दिया गया है। जोकि इस राज्य के शिक्षा व्यवस्था के लिए खतरनाक है। सरकार अपने वादों को पूरा करें अन्यथा भारतीय जनता पार्टी सड़क पर उतरने को मजबूर होगी। इस संवाददाता सम्मेलन में प्रदेश मंत्री सुबोध सिंह गुड्डू,प्रदेश प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव,सह मीडियाप्रभारी योगेंद प्रताप सिंह उपस्थित रहे।

Recent Posts

%d bloggers like this: