अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

टीपीसी उग्रवादी खलील उर्फ राहुल समेत आधा दर्जन गिरफ्तार


रांची:- रांची के खलारी ,बुड़मू ,चान्हो ,मांडर और ठाकुर गांव क्षेत्र में आतंक का पर्याय बने टीपीसी उग्रवादी खलील उर्फ राहुल गंझू को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।
प्राप्त जानकारी के मुताबिक चान्हो के एक व्यक्ति से टीपीसी खलील गंझू ने लेवी मांगा था। उस लेवी को लेने के लिए उसनेउक्त ठेकेदार को मक्का व सिरम क्षेत्र में बुलाया था। जिसकी जानकारी जिले के पुलिस कप्तान सुरेन्द्र कुमार झा व ग्रामीण एस पी नौशाद आलम को हो गयी। उसी सूचना पर क्यूआरटी का गठन कर जाल बिछाया गया, उसके अलावा खलारी डीएसपी अनिमेष नैथानी के नेतृत्व में बुड़मू खलारी,मांडर चान्हो व मैक्लूस्कीगंज थाना पुलिस की पूरी टीम को भी टीपीसी उग्रवादी खलील व उसकी टीम को दबोचने में लगी हुई थी। सूचना के मुताबिक पुलिस की टीम पहले से ही मक्का व सिरम के जंगलों में आम आदमी की शक्ल में घुस गयी। उसी दौरान एक लाल ग्लेमर मोटरसाईकिल में सवार हो कर लेवी के रुपये लेने के लिए दो नक्सली वहां पहुंच गये लेकिन रुपये लेने से पहले ही पुलिस की टीम ने दोनों को दबोच लिया। खबर के मुताबिक गिरफ्त में लिये गये उग्रवादियों में ग्राम सिरम निवासी पदू का बेटाअर्जून सहित दो शामिल हैं। बाद में पुलिस ने उनकी निशानदेही पर जाल बिछा कर उग्रवादी खलील उर्फ राहुल गंझू और उसके छोटे भाई के अलावा टीबू समेत आधा दर्जन सदस्यों को गिरफ्त में ले कर बड़ी कामयाबी हासिल की है। सूत्रों के मुताबिक पुलिस ने इन गिरफ्तार उग्रवादियों के पास से हथियार व गोलियां समेत नक्सली पर्चे के अलावा कई अन्य सामाग्री बरामद किये हैं। हांलाकी पुलिस इनकी गिरफ्तारी की पुष्टि फिलहाल नहीं कर रही है।

मोहन यादव और संतोष लोहरा हत्या में भी थी पुलिस को तलाश
पुलिस गिरफ्त में आया टीपीसी के सक्रिय उग्रवादी खलील उर्फ राहुल गंझू ने 21 जून 2020 को गोली मार कर हत्या कर दी थी। उसके बाद 6 जूलाई 2020 को माओवादी माओवादी मोहन यादव की भी हत्या कर दी थी। दोनों की हत्या के बाद से पुलिस उसकी तलाश में लगी हुई थी। इसके अलावा साहिल इंफ्रा प्रोजेक्ट प्रा0 लि0 के ठेकेदार चंदवा के निवासी मोहसीन खान के बुड़मू साईड में फरवरी महीने में की गयी फायरिंग मामले में भी पुलिस को उसकी तलाश थी। खलील ने चान्हों के हर्रा गांव निवासी रामपाल सिंह पर लोगी चलाया कर उसके घर में पोस्टर चिपकाया था जिसमें भी वह वांटेड था। इसके अलावा उस क्षेत्र के सभी थानों में भी उसके खिलाफ कई मामले दर्ज हैं जिसमें पुलिस उसे तलाश कर रही थी। पुलिसिया पूछताछ में उसके कई सफेदपोश सहयोगियों के नाम भी आये हैं जो उसकी कमाई पर ऐश करते थे। सूत्रों के मुताबिक खलील की अवैध कमाई को उसके करीबी रिस्तेदार भी इस्तेमाल करते थे जिसकी जानकारी पुलिस को मिल चुकी है। जिस पर पुलिस आगे की कार्रवाई की तैयारी में लग गयी है।

%d bloggers like this: