March 6, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

ग्रीम स्वान का गुरुमंत्र, इंग्लिश स्पिनर्स को दी भारतीय पिच पर जीत की चाबी

भारत और इंग्लैंड के बीच पांच फरवरी से चार टेस्ट मैचों की श्रृंखला खेली जाएगी। इसके बाद पांच टी-20 अंतरराष्ट्रीय और तीन एकदिवसीय मैच खेले जाएंगे।

नई दिल्ली:- इंग्लैंड के पूर्व ऑफ स्पिनर ग्रीम स्वान का कहना है कि भारत के खिलाफ आगामी टेस्ट श्रृंखला में उनके देश के स्पिनरों को धैर्य बनाए रखना होगा और उन्हें लगता है कि जैक लीच इस दौरे में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं। लीच और डॉम बेस की स्पिन जोड़ी ने श्रीलंका के खिलाफ पहले टेस्ट मैच में इंग्लैंड की जीत में अहम भूमिका निभाई थी, लेकिन गाले में चल रहे दूसरे टेस्ट मैच की पहली पारी में उन्हें विकेट नहीं मिला। स्वान ने अपने 255 टेस्ट विकेटों में से 60 विकेट भारत, श्रीलंका और बांग्लादेश में लिए हैं और वह जानते हैं कि उपमहाद्वीप में सफल होने के लिए क्या आवश्यक है।
इस 41 वर्षीय पूर्व स्पिनर ने एक क्रिकेट कार्यक्रम में कहा, ‘एक चीज मैं हमेशा खुद से कहता था कि गेंद स्पिन होगी और वह स्पिन करती थी यहां तक कि उस दिन भी जब पिच बेहद सपाट हो। अगर आप विशेषकर भारत के खिलाफ अच्छी गेंदबाजी करते हैं तो वे आपको पूरे सम्मान के साथ खेलते हैं। वर्तमान टीम में वीरेंद्र सहवाग नहीं है। विराट कोहली जब स्पिनरों को खेलता है तो खराब गेंद का इंतजार करता है।’

लीच को करनी होगी सटीक गेंदबाजी

इस पूर्व ऑफ स्पिनर ने कहा कि भारत में इंग्लैंड की सफलता में लीच अहम भूमिका निभा सकते हैं। स्वान ने कहा, ‘भारतीय बल्लेबाज बेहद धैर्यवान हैं, लेकिन अगर आप धैर्य रखने के लिए तैयार हैं और संयम के साथ पूरे दिन गेंदबाजी करते हैं तो आपको विकेट मिलेंगे। आपको उनके सामने बहुत कड़ी मेहनत करनी पड़ सकती है और आपकी लय थोड़ा गड़बड़ा सकती है जो कि बुरी बात नहीं है। भारत में जिनको सफलता मिल सकती है उनमें मैं जैक लीच को भी रखूंगा। उसे सीधी गेंद करनी चाहिए। उसे मिडिल स्टंप को निशाना बनाकर गेंदबाजी करनी चाहिए। अगर जैक लीच ऐसा कर सकता है और एक छोर से लगातार गेंदबाजी करता है तो आप अपने मुख्य गेंदबाजों मार्क वुड, जेम्स एंडरसन और स्टुअर्ट ब्रॉड को रोटेट कर सकते हो और दूसरे स्पिनर को आक्रमण की छूट दे सकते हो।’

दर्शकों के साथ हो सकती है T-20 सीरीज, टेस्ट श्रृंखला खाली स्टेडियम में होगी!

टीमों के 27 जनवरी तक चेन्नई पहुंचने की उम्मीद है जिसके बाद बायो-बबल में प्रवेश करने से पहले कोविड-19 परीक्षण कराना होगा। केंद्र सरकार ने हाल में घोषणा की थी कि आउटडोर खेल गतिविधियां मानक परिचालन प्रक्रिया का पालन करते हुए 50 प्रतिशत दर्शकों के साथ कराई जा सकती हैं।
नई दिल्ली, नया साल भारतीय क्रिकेट फैंस के लिए नई खुशियां लेकर आया है। पहले तो टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया में इतिहास रचा। अब खबर है कि इंग्लैंड के खिलाफ टी-20 सीरीज के दौरान दर्शकों को मैदान पर जाने की इजाजत दी जा सकती है। टेस्ट सीरीज के बाद 12 मार्च से अहमदाबाद से शुरू हो रही टी-20 सीरीज में बीसीसीआई यह प्रयोग करने जा रहा है। समाचार एजेंसी एएनआई से बात करते हुए बोर्ड के एक अधिकारी ने बताया कि अंतिम निर्णय अब भी सरकार को ही लेना है, लेकिन हम स्टेडियम में खाली पड़ी सीट्स को भरना चाहते हैं। हमारी कोशिश है कि कम से कम स्टेडियम क्षमता का 50 प्रतिशत हिस्सा टी-20 के रोमांच का साक्षी बने।

खाली स्टेडियम में होंगे शुरुआती दो टेस्ट

भारत बनाम इंग्लैंड

इंग्लैंड के भारत दौरे की शुरुआत 5 फरवरी से हो रही है, जिसके शुरुआती दो टेस्ट चेन्नई के एमए चिदम्बरम स्टेडियम में दर्शकों के बिना खेले जाएंगे। कोविड-19 महामारी की मौजूदा परिस्थितियों को देखते हुए बीसीसीआई ने भारत-इंग्लैंड टेस्ट श्रृंखला के दौरान खिलाड़ियों की सुरक्षा के साथ किसी भी तरह का जोखिम नहीं उठाने का फैसला किया है। बीसीसीआई निर्देश के अनुसार एहतियाती कदम के तौर पर पहले दो टेस्ट मैच पांच से 17 फरवरी के बीच एम ए चिदम्बरम स्टेडियम में दर्शकों के बिना खेले जाएंगे। दो टेस्ट के बाद टीमें अहमदाबाद का रुख करेंगी, जहां 24-28 के बीच तीसरा और 4-8 के बीच चौथा टेस्ट खेला जाना है। अहमदाबाद में होने वाला तीसरा टेस्ट डे-नाइट होगा, जिसे पिंक बॉल से खेला जाएगा। 2020 की शुरुआत में पुनर्निर्माण के बाद अपने पहले मुकाबले के लिए मोटेरा स्टेडियम पूरी तरह तैयार है।

मोटेरा स्टेडियम में ही होगी पूरी टी-20 सीरीज

मौजूदा हालात में क्वारंटीन गाइडलाइंस के मद्देनजर पूरा क्रिकेट कार्यक्रम सिर्फ तीन सेंटर्स में ही आयोजित होगा। चेन्नई, अहमदाबाद के अलावा तीन मैच की वन-डे सीरीज की मेजबानी पुणे करेगा। कोरोना संक्रमण के बाद यह हिंदुस्तानी सरजमीं पर पहली अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट प्रतियोगिता होगी, इसके पहले मार्च में भारत दौरे पर आई दक्षिण अफ्रीकी टीम को बीच में दौरा छोड़कर स्वदेश लौटना पड़ा था। कोरोना महामारी के बाद जब खेल गतिविधियां दोबारा शुरू हुई तो क्रिकेट को बंद दरवाजों के पीछे यानी खाली स्टेडियम में शुरू किया गया। इंडियन प्रीमियर लीग का 14वां संस्करण यूएई में बिना दर्शकों के बीच खेला गया हालांकि ऑस्ट्रेलिया दौरे पर स्थानीय प्रशासन ने 50 प्रतिशत दर्शकों को स्टेडियम में आने की अनुमित दी थी।

दिन मैच जगह

12 मार्च पहला टी-20 अहमदाबाद
14 मार्च दूसरा टी-20 अहमदाबाद
16 मार्च तीसरा टी-20 अहमदाबाद
18 मार्च चौथा टी-20 अहमदाबाद
20 मार्च पांचवां टी-20 अहमदाबाद

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
%d bloggers like this: