February 26, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

लोहा-इस्पात की उपलब्धता बढ़ाने और कीमतों में कमी लाने के लिए सरकार कर रही कई उपाय

रांची:- देश में लोहे और इस्पात की बढ़ती मांग के अनुरूप उपलब्धता में कमी और इस वजह से लोहा-इस्पात की कीमतों में वृद्धि से सरकार चिंतित है। सरकार ने लोहा-इस्पात की उपलब्धता बढ़ाने और कीमतों में कमी लाने के लिए घरेलू उत्पादन में तेजी लाने के लिए कई कदम उठाये हैंद्य बुधवार को राज्यसभा में सांसद महेश पोद्दार के एक प्रश्न का उत्तर देते हुए इस्पात मंत्री श्री धर्मेन्द्र प्रधान ने यह जानकारी दी।
मंत्री श्री प्रधान ने श्री पोद्दार के प्रश्न का उत्तर देते हुए कहा कि लौह अयस्क और इस्पात की मांग और आपूर्ति में असंतुलन के कारण हाल के महीनों में लोहा और इस्पात की कीमतों में वृद्धि हुई है। मंत्री श्री प्रधान ने बताया कि एक नियंत्रण मुक्त, खुले बाज़ार के परिदृश्य में घरेलू इस्पात का मूल्य मांग व पूर्ति के बाज़ार के कारकों और कच्चे माल के मूल्यों के रुझान द्वारा निर्धारित होता हैद्य कई बार यह वैश्विक परिस्थितियों द्वारा प्रभावित भी होता हैद्य
लौह अयस्क की कमी को लोहा-इस्पात की कीमतों में वृद्धि की बड़ी वजह बताते हुए श्री प्रधान ने कहा कि वर्तमान वित्त वर्ष में नवम्बर 2020 तक लौह अयस्क का उत्पादन 112 एमटी ही रहा जबकि पिछले वर्ष की इसी अवधि के दौरान 152 एमटी लौह अयस्क का उत्पादन हुआ थाद्य मार्च 2020 की नीलामी के बाद ओड़िसा में 13 चालू खनन पट्टों का ऑपरेशन नहीं हुआ जिसके कारण इसकी उपलब्धता कम हुई और इस वजह से लौह अयस्क के मूल्य में वृद्धि हुई।
लौह अयस्क की उपलब्धता को बढ़ाने के लिए सरकार अन्य उपायों के साथ-साथ खनन और खनिज नीति सुधार, सरकारी खनन कंपनियों द्वारा उत्पादन एवं अधिकतम क्षमता उपयोग में तेजी लाना, सेल को 25प्रतिशत फ्रेश फाइन और 70 एमटी डंप तथा अवशिष्ट बेचने की अनुमति प्रदान करना, सेल द्वारा लौह अयस्क फाइन की नीलामी में तेजी लाना और ओड़िसा की जब्त कार्यशील खदानों का राज्य एवं केंद्र के पीएसयू आदि द्वारा जल्द प्रचालन जैसे कदम उठा रही है। श्री प्रधान ने आश्वस्त किया कि जल्दी ही लौह अयस्क की उपलब्धता बढ़ेगी जिससे न सिर्फ लोहा-इस्पात का उत्पादन मांग के अनुरूप हो सकेगा बल्कि इसकी कीमतें भी नियंत्रित होंगी।

Recent Posts

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
%d bloggers like this: