अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

ओमिक्रॉन से निपटने के लिए सरकार ने कसी कमर


नयी दिल्ली:- देश में दिल्ली, महाराष्ट्र और तेलंगाना समेत 15 राज्यों में कोविड के नये रूप ‘ओमिक्रॉन’ के 213 मरीज सामने आने और अमेरिका में इससे एक व्यक्ति की मौत के बाद सरकार ने जिला स्तर पर संक्रमण से निपटने की तैयारी के लिए कमर कस ली है।
केंद्र सरकार ने ओमिक्रॉन के बढ़ते मामलों को देखते हुए जिला स्तर पर निगरानी और परीक्षण बढ़ाने तथा अस्पतालों को किसी भी स्थिति से निपटने के लिए तैयार रखने को कहा है। इस बीच, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ओमिक्रॉन से निपटने की तैयारियों की समीक्षा के लिए कल बैठक करेंगे।
ताजा आंकड़ों के अनुसार देश में 15 राज्यों में ओमिक्राॅन से संक्रमित 213 व्यक्ति सामने आये हैं। इनमें दिल्ली में 57, महाराष्ट्र में 54, तेलंगाना में 24, कर्नाटक में 19, राजस्थान में 18, केरल में 15, गुजरात में 14, जम्मू-कश्मीर में तीन, ओडिशा में दो, उत्तर प्रदेश में दो और आंध्र प्रदेश, चंडीगढ़, लद्दाख, तमिलनाडु तथा पश्चिम बंगाल में एक-एक मामला सामने आया है। सरकार का कहना है कि इनमें कुल 90 व्यक्तियों को अस्पतालों से छुट्टी दी गयी है। इस बीच अमेरिका में एक व्यक्ति की ओमिक्राॅन से माैत की खबर मिली है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने सख्ती से कोविड मानकों का सख्ती से पालन करने की सलाह दी है।
केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय में सचिव राजेश भूषण ने कहा कि ओमिक्रॉन का प्रसार डेल्टा की तुलना में तीन गुना तेजी से होता है। इसलिए, इसका फैलाव रोकने के लिए अतिरिक्त सावधानी की आवश्यकता है। उन्होेंने कहा कि सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से कहा है कि जिन जिलों में कोविड संक्रमण दर 10 प्रतिशत से अधिक है या जिन जिलों में कोविड अस्पतालों के 40 प्रतिशत से अधिक बिस्तर भर चुके हैं, वहां कोविड निगरानी एवं परीक्षण बढ़ाया जाना चाहिए और कोविड मानकों का पालन सख्ती से किया जाना चाहिए। इन जिलों के अस्पतालों में कोविड की सभी उपलब्ध सुविधायें सुनिश्चित की जानी चाहिए। उन्होंने कहा है कि देश के कुछ हिस्सों में ओमिक्रॉन का फैलाव तेजी से हो रहा है जबकि डेल्टा संस्करण का प्रभाव अभी बना हुआ है। स्थिति को देखते हुए सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को अतिरिक्त सावधानी बरतनी चाहिए। केंद्र सरकार के निर्देशों का पालन पूरी तरह से किया जाना चाहिए। कोविड से निपटने के लिए जिला स्तर पर रणनीति तय करने पर बल देते हुए श्री भूषण ने कहा कि निषेध क्षेत्रों की कड़ी निगरानी की जानी चाहिए और कोविड पीड़ित के संपर्क और संबंध पर नजर रखी जानी चाहिए। जिला स्तर पर स्थिति की गंभीरता को समझते निषेध क्षेत्रों में रात्रि कर्फ्यू लगाया जाना चाहिए और भीड़ नियंत्रित की जानी चाहिए। सरकार ने जोखिम वाले राष्ट्रों समेत विदेश यात्रा से लौटने वाले लोगों पर कड़ी नजर रखने को कहा है। सभी यात्रियोें के एयर सुविधा पोर्टल पर काेविड संबंधी घाेषणा करना और आरटी-पीसीआर परीक्षण रिपोर्ट लेकर आना अनिवार्य कर दिया है। लगभग सभी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डों पर कोविड जांच की सुविधा उपलब्ध करायी गयी है। इस बीच, राष्ट्रव्यापी टीकाकरण अभियान के तहत अब तक 138.96 से अधिक करोड़ कोविड टीके लगाए जा चुके हैं।

%d bloggers like this: