अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

गंजबासौदा हादसा: कुएं में गिरे बच्चे समेत 11 के शव मिले, गांव में मातम का माहौल…

विदिशा:- मध्य प्रदेश में विदिशा जिले के गंजबासौदा स्थित लाल पठार गांव में कुएं हादसे में कुएं में डूबने वाले सभी मृतकों के शवों को बाहर निकाल लिया गया है। लगातार करीब 36 घंटे से अधिक चले इस रेस्क्यू ऑपरेशन में शुक्रवार को 9 शव निकाले गए। 3 शव गुरुवार रात को ही निकाल लिए गए थे। इसके साथ ही मृतकों की कुल संख्या बढ़कर 11 हो गई है। सीएम शिवराज सिंह चौहान के निर्देशनुसार सभी मृतकों के परिजनों को 5-5 लाख और घायलों को 50-50 हजारे की सहायता राशि के चेक वितरित किए गए। पीएम मोदी ने भी हादसे में जान गंवाने वालों के लिए शोक संवेदनाएं व्यक्त की और मृतकों के परिजनों को 2-2 लाख की सहायता राशि का ऐलान किया है।

ये है पूरा घटनाक्रम

विदिशा के गंजबासौदा के लाल पठार गांव में गुरुवार शाम करीब 13 साल का बच्चा अपने भाई के साथ कुएं पर पानी लेने गया। इस दौरान वह कुएं में गिर गया। यह देख उसका भाई दौड़ते हुए गांव की तरफ भागा। रास्ते में उसे जो भी दिखा, उससे रोते हुए कहा कि मेरा भाई रवि कुएं में गिर गया। जिसने भी यह सुना व कुएं की ओर भागा। देखते ही देखते गांव में हड़कंप मच गया और खबर आग की तरह गांव में फैल गई। जैसे जैसे लोग कुएं के पास पहुंच रहे थे वैसे वैसे अंधेरा बढ़ता जा रहा था। कुएं की मुंडेर पर करीब 50 से ज्यादा की संख्या में लोग पहुंच गए। प्रत्यशदर्शियों की मानें तो जो लोग तैरना जानते थे, वह बच्चे को बचाने के लिए कुएं में कूद गए। और कुछ लोग मुंडेर पर खड़े होकर रस्सी की मदद से रवि को तलाशने लगे। लेकिन रवि का कुछ भी पता नहीं चला। इसी बीच अचानक से कुएं की मुंडेर धंस गई।
मुंडेर पर खड़े सारे के सारे लोग कुएं में गिर गए और उनके ऊपर मिट्टी का मलबा गिर गया। गिरने वालों की संख्या करीब 30 बताई जा रही है। हादसा होते ही मौके पर अफरातफरी मच गई। तब तक अंधेरा भी बढ़ गया था। अब तक स्थानीय अधिकारियों को समझ आ गया था कि हादसा बहुत बड़ा है। डूबने वालों को बचाने के लिए स्थानीय संसाधनों के सहारे रेस्क्यू शुरु किया गया। सीएम शिवराज भी विदिशा में ही मौजूद थे उनके निर्देश पर भोपाल से एसडीआरएफ और होमगार्ड की टीम घटनास्थल पर पहुंची। रेस्क्यू ऑपरेशन और कुएं से पानी निकालना शुरू कर दिया। लेकिन इसी बीच एक और बड़ा हादसा हो गया राहत एवं बचाव कार्य शुरू करने वाले 4 होमगार्ड ट्रैक्टर समेत कुएं में गिर गए। जिनमें से 3 को सुरक्षित बाहर निकाल लिया जबकि एक लापता हो गया।
ट्रैक्टर गिरने से कुएं के अंदर फंसे लोगों को और नुकसान पहुंचा। रात होने की वजह से रेस्क्यू में परेशानी बढ़ती जा रही थी। कुएं के बाहर लोगों की भीड़ जमा थी और उनमें रेस्क्यू देरी से शुरु होने का रोष था। फिर भी कई लोगों को सुरक्षित बाहर निकाल लिए गए। 3 की मौत हो चुकी है 11 अभी भी लापता बताए जा रहे हैं। वहीं यह रेस्क्यू शुक्रवार पूरा दिन चला और शाम होते होते बच्चे समेत 11 के शव निकाल लिए गए।

%d bloggers like this: