अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

कैमूर पहाड़ की खूबसूरत वादियों में पर्यटन की संभावनाएं तलाशने निकले वन एवं पर्यावरण मंत्री


आरा:- बिहार के कद्दावर युवा नेता और राज्य के वन एवं पर्यावरण और जलवायु परिवर्तन मंत्री नीरज कुमार सिंह बबलू ने बिहार के रोहतास और कैमूर जिलों में फैले विशाल पर्वत और हरे भरे वनों से प्राकृतिक छटा बिखेर रही कैमूर की पहाड़ियों और आसपास स्थित प्राचीन धार्मिक धरोहरों,जलप्रपातों,पर्वतीय कुंडों,झीलों,जलाशयों का शनिवार को निरीक्षण किया और इन इलाकों में पर्यटन की संभावनाओं को ले ठोस कदम उठाने की कार्रवाई शुरू की है।वन एवं पर्यावरण और जलवायु परिवर्तन मंत्री नीरज कुमार सिंह बबलू के साथ उनकी पत्नी और बिहार विधान परिषद की सदस्य श्रीमती नूतन सिंह भी उनके दो दिवसीय दौरे के कार्यक्रम में साथ थी।मंत्री बबलू के साथ वन एवं पर्यावरण और जलवायु परिवर्तन विभाग के कई अधिकारी भी दौरे के दौरान साथ थे।
अपने रोहतास और कैमूर यात्रा के दौरान मंत्री बबलू ने कैमूर की पहाड़ी से तीन तरफ से घिरे शेरगढ़ हिल और राजा देवहिल के बीच स्थित डैम के पीछे बीस वर्ग किलोमीटर से अधिक भूभाग में फैले डैम का जायजा भी लिया और मोटर बोट पर बैठ इस झील का नजदीक से लुत्फ भी उठाया।उन्होंने माना कि वाकई यह झील देशी विदेशी पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित कर सकता है। उन्होंने इस झील में पर्यटकों के लिए बोटिंग और वाटर बाइकिंग की सुविधा उपलब्ध कराने की बात भी कही।
पर्यटन की संभावनाओं से भरे पड़े रोहतास और कैमूर की पहाड़ियों में पर्यटन के दृष्टिकोण से पर्वत, वन एवं हरे भरे पर्यावरण क्षेत्र को विकसित करने की मंशा से पहाड़ी इलाकों में निरीक्षण करने पहुंचे मंत्री बबलू ने अपनी यात्रा के दौरान कैमूर के तिल्हाड़ कुण्ड के मनोरम दृश्य को भी नजदीक से देखा और कहा कि ये इलाके पर्यटकों को बरबस ही अपनी ओर खींच लेंगे। पहाड़ की खूबसूरत वादियों में बसे तिल्हाड़ कुण्ड को विकसित कर इसे पर्यटकों के लिए सुलभ बनाने की बात भी मंत्री ने कही।
उन्होंने कैमूर पहाड़ी के सैकड़ों फीट ऊंचाई पर बसे करकटगढ़ इको पार्क का भी निरीक्षण किया और वन क्षेत्र के अधिकारियों को इस इको पार्क को विकसित कर इसे पर्यटक स्थल बनाने का प्रस्ताव भी तैयार करने को कहा।उन्होंने कहा कि इस इको पार्क के विकसित होने से करकटगढ़ की मनोरम छटाओं में चार चांद लग जायेगा। मंत्री बबलू ने कहा कि करकटगढ़ वन क्षेत्र में मौजूद झूला पुल और जल प्रपात टूरिज्म का बड़ा केंद्र बन सकता है और यहां टूरिज्म की अनेक संभावनाएं मौजूद हैं।
उन्होंने अपनी पत्नी और विधान पार्षद नूतन सिंह के साथ यहां शुद्ध हवा और पॉल्यूशन रहित वातावरण में सैकड़ो वृक्ष लगाकर वन एवं पर्यावरण की सुरक्षा का संदेश दिया। रोहतास के तिलौथू स्थित मां तुतलेश्वरी भवानी धाम और आसपास के पर्वतीय और वन्य क्षेत्र का जायजा भी लिया और इस पर्यटक स्थल को विकसित करने की भी बात कही। रोहतास के ऐतिहासिक पुरातात्विक धरोहर शेरशाह सूरी के मकबरे को भी देखा और कहा कि टूरिज्म का बिहार में यह भी बड़ा केंद्र बन सकता है।उन्होंने डेहरी ऑनसोन में वीर कुंवर सिंह की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया और 1857 के स्वतंत्रता संग्राम के महायोद्धा वीर बांकुड़ा बाबू कुंवर सिंह को श्रद्धापूर्वक नमन भी किया।
मंत्री ने सासाराम में मां ताराचंडी धाम,कैमूर में मां मुंडेश्वरी धाम,तिलौथू में मां तुतला भवानी धाम का पत्नी नूतन सिंह के साथ दर्शन किया और बिहार वासियों की सुरक्षा और उन्नति के लिए आशीर्वाद मांगा। मंत्री बबलू के साथ बिहार सरकार के मंत्री मो.जमा खान और भाजपा के स्थानीय नेता और कार्यकर्ता शामिल थे। जगह जगह भाजपा कार्यकर्ताओं ने मंत्री बबलू और विधान पार्षद सिंह का भव्य स्वागत किया।कैमूर की पहाड़ियों और खूबसूरत वादियों में पर्यटन की तमाम संभावनाओं का रोड मैप तैयार कर मंत्री बबलू पटना के लिए निकल गए।

%d bloggers like this: