March 7, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

कृषि विज्ञान केंद्र में ’राष्ट्रीय बागवानी मेला -2021’ को लेकर किसान वर्चुअली हुए शामिल

हजारीबाग:- होली क्रॉस कृषि विज्ञान केन्द्र में बुधवार को आयोजित कार्यक्रम में हजारीबाग जिले के लगभग 127 महिला एवं पुरुष किसानों ने भाग लिया।उपस्थित किसानों ने राष्ट्रीय उद्यानिकी अनुसंधान संस्थान बैंगलूर में आयोजित “राष्ट्रीय बागवानी मेला – 2021“ में कृषि विज्ञान केन्द्र ,हजारीबाग के सगयोग से वर्चुअल अटेंड किया। “भारतीय उद्यानिकी अनुसंधान संस्थान बैंगलूर की ओर से यह कार्यक्रम 10 फ़रवरी को विशेष तौर पर झारखण्ड एवं बिहार के किसानों के लिए रखा गया था। जिसमें विशेष कर झारखण्ड में उगाये जाने वाले फलों एवं सब्जियों के बारे में अनुसंधान संस्थान के द्वारा वैज्ञानिकों ने अपनी-अपनी विशेष तकनीक से अवगत कराया।विदित है कि बैंगलूर “ भारतीय उद्यानिकी अनुसंधान संस्थान के अतिरिक्त उद्यानिकी अनुसंधान केंद्र लखनऊ , उद्यानिकी अनुसंधान केंद्र बिकानेर , त्रिचि केला अनुसंधान संस्थान , सब्जी अनुसंधान संस्थान केंद्र भुनेश्वर , लीची अनुसंधान केंद्र मुजफ्फरपुर और इसी तरह के अन्य अनुसंधान संस्थानों के अन्य वैज्ञानिकों ने बागवानी फसलों जैसे – आम ,अमरुद , पपीता , केला , लीची , कटहल, बेल, शरीफा, बेर, आँवला और नींबू वर्गीय फसलों के जानकारी दी गईद्य नींबू वर्गीय फसलों के जानकारी के लिए विशेष रूप से नींबू वर्गीय अनुसंधान संस्थान, नागपुर के वैज्ञानिकों ने चर्चा की।
सभी वैज्ञानिकों ने झारखण्ड में उगाये जाने वाली सब्जी एवं फल के उन्नत प्रजाति, प्रबंधन,कीट ब्याधि प्रबंधन एवं सिंचाई प्रबंधन पर विस्तार से चर्चा की। करीब पाँच से छः राज्यों के किसानों ने इस ऑनलाइन कार्यक्रम से जुड़े एवं साथ ही साथ इनमें से कुछ किसानों ने अपना अनुभव भी ऑनलाइन के माधयम से साझा किया।
अनुसंधान संस्थान पटना के निदेशक डॉ. अंजनी कुमार ने सभी वैज्ञानिकों एवं किसानों को आह्वान भी किया कि खेती में अधिक वैज्ञानिक तकनीक का प्रयोग कर इसे आगे के तरफ बढ़ाये।
प्रायोद्धिकी अनुप्रयोग अनुसंधान संस्थान,पटना के निदेशक डॉ. अंजनी कुमार ने भारतीय उद्यानिकी अनुसंधान संस्थान बैंगलूर के निदेशक को झारखण्ड एवं बिहार के सब्जी एवं फल उत्पादक किसानों की समस्यायों से अवगत कराया एवं अनुरोध किया कि झारखण्ड एवं बिहार के किसानों का जल्द से जल्द समाधान किया जाये।
कार्यक्रम की अध्यक्षता होली क्रॉस कृषि विज्ञान केन्द्र की निदेशिका सिस्टर सजिता ने किया, कृषि विज्ञान केन्द्र के वरीय वैज्ञानिक सह अध्यक्ष डॉ. आर. के. सिंह ने किसानों को आह्वान किया कि इस नई वैज्ञानिक तकनीक से किसान बन्धु जुड़े और इसे अपनावें , जिससे उनकी लागत कम के साथ साथ उत्पादन क्षमता भी बढ़े और किसान बंधु की आय में बढ़ोतरी हो, जिससे वे खुशहाल रहें।
कार्यक्रम में संस्था के अन्य वैज्ञानिकों जैसे उद्यान विभाग डॉ. प्रशांत वर्मा, गृह विज्ञान विभाग सिस्टर अलमा बाड़ा, मृदा विज्ञान विभाग – मिस्टर मनोज कुमार सिंह, पशुपालन विभाग – डॉ. संजीव कुमार सिंह, सस्य विभाग डॉ. सतेंद्र लाल यादव, मौसम विभाग डॉ. सीमा कुमारी, पौधा संरक्षण विभाग मिस्टर पुपेन्द्र कुमार धाकड़ एवं अन्य सहयोगियों ने किसानों को नई – नई तकनीक की जानकारी दी एवं कार्यक्रम को सफल बनाने में भरपूर सहयोग किया।

Recent Posts

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
%d bloggers like this: