March 1, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

समेकित किसानी में आर्थिक समृद्धि की कहानी रच रहे किसान, फसल के अलावा कर रहे मछली व पशुपालन

औरंगाबाद:- देव प्रखंड के बिजौली गांव के किसान दुदुन सिंह समेकित किसानी से आर्थिक समृद्धि की कहानी रच रहे हैं। बेहतरीन खेती कर न सिर्फ अपनी आय बढ़ा रहे हैं, बल्कि किसानी से अपना सपना साकार कर रहे हैं। पेशे से अधिवक्ता दुदुन समेकित किसानी के लिए बजाप्ता करीब दो एकड़ में कृषि फार्म बना रखे हैं। इसी फार्म में समेकित कृषि प्रणाली के तहत खेती की है।
करीब डेढ़ बिगहा में दो तालाब बनाकर उसमें मछली का पालन किए हैं। मछली पालन के अलावा बकरी पालन, मुर्गा पालन और डेयरी के लिए गाय का पालन किए हैं। कृषि फार्म में हर सीजन का सब्जी का उत्पादन करते हैं। हालांकि कृषि फार्म बनाए हुए अभी एक वर्ष भी नहीं हुआ है पर कृषि फार्म से आमदनी शुरु हो गई है। अभी हर माह करीब 10 से 15 हजार की आमदनी हो रही है। आगे इस कृषि प्रणाली से करीब पांच से छह लाख आमदनी होने की उम्मीद है। पेशे से अधिवक्ता किसान कोर्ट में वकालत का कार्य कम खेती में ही अधिक समय बिताते हैं। इनकी सफल किसानी देखने प्रतिदिन दूसरे गांव व प्रखंड के किसान पहुंचते हैं और कृषि फार्म में खेती की जानकारी लेते हैं।
किसान दुदुन ने बताया की वे करीब दस बिगहा में रबी एवं खरीफ फसल की खेती करते हैं। खेती से अच्छी आय नहीं होने के कारण समेकित कृषि करने का मन बनाकर करीब दो एकड़ में कृषि फार्म बनाया और इसी में तालाब बनाकर मच्छली का पालन किए हैं। मुर्गा, बकरी का पालन करना शुरू किया है। इसके अलावा सब्जी और पपीता की खेती की है। किसान ने बताया की पपीता तैयार हो गया है और हर दिन करीब 15 से 20 केजी पका हुआ पपीता बाजार में 40 रुपये प्रति केजी बेंच रहे हैं। बताया कि हर सीजन में सीजनली सब्जी की भी बेहतरीन खेती करते हैं। कृषि फार्म में केला की खेती भी करते हैं। फार्म में उपजने वाली सब्जी जिला मुख्यालय की बाजार में बिकती है। मछली कृषि फार्म में ही बिक जाती है।
बताया कि किसानी में यूटूब चैनल से भी कुछ जानकारी प्राप्त करते हैं। किसान ने बताया की कृषि फार्म में समेकित कृषि से अच्छी आय प्राप्त की जा सकती है। उधर जिला कृषि पदाधिकारी अश्वनी कुमार ने बताया की कृषि विभाग के द्वारा किसानों को रबी और खरीफ फसल के अलावा समेकित कृषि प्रणाली के तहत खेती करने के लिए जागरूक किया जाता है। प्रशिक्षण भी दिया जाता है। जबतक किसान धान और गेहूं के अलावा सब्जी की खेती, मछली का पालन और डेयरी का धंधा नहीं करेंगे अच्छी आमदनी नहीं प्राप्त कर सकते हैं।

Recent Posts

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
%d bloggers like this: