अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमणकाल में सभी ने अपनों को खोया-स्पीकर


सबसे बड़े शोक प्रस्ताव पर पक्ष-विपक्ष के सदस्यों ने जताया शोक
रांची:- झारखंड विधानसभा के मॉनसून सत्र के पहले दिन दिवंगत आत्माओं को श्रद्धांजलि दी गयी।
विधानसभा की कार्यवाही शुरू होने पर स्पीकर रवींद्रनाथ महतो ने कहा कि कोरोना महामारी की दूसरी लहर के बाद आज पहली बार सभी एकत्र हो रहे है और इस विभिषिका में हर किसी ने अपने को खोया है। इस महामारी का भय अब तक खत्म नहीं हुआ है, परंतु अपने दायित्वों के निर्वहन के लिए यहां एकत्र हुए हैं।
रवींद्रनाथ महतो ने अपने शोक प्रस्ताव में कहा कि पिछले सत्र से अब तक की अवधि में दिवंगत होने वाले कई महत्वपूर्ण राजनेता, साहित्यकर, पर्यावरणविद और खिलाड़ी गुजर गये। इनमें से कल्याण सिंह, साईमन मरांडी, बंदी उरांव, लक्ष्मण गिलुवा, प्रो0 दुखा भगत, दिलीप कुमार, मिल्खा सिंह, सुंदरलाल बहुगुणा, नरेंद्र कोहली, गिरधारी राम गोंझू और गोपाल दास प्रमुख है।
वहीं कोरोना काल में निधन हो पत्रकारों, बुद्धिजीवियों और अन्य लोगों के निधन पर भी उन्होंने शोक व्यक्त किया। विधानसभा अध्यक्ष ने पूर्व विधायक राजेंद्र सिंह मुंडा, नियेल तिर्की, बिहार के पूर्व राज्यपाल रघुनंदन लाल भाटिया, जगन्नाथ पहाड़िया, अंशुमान सिंह, हिमाचल प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह, पूर्व सांसद जोरावर राम, मो0 शहाबुद्दीन, नंद कुमार सिंह चौहान, भाजपा सांसद रामस्वरूप शर्मा, पूर्व सांसद डॉ0 रमेंद्र कुमार यादव, बिहार विधान परिषद के पूर्व सभापति प्रो0 अरूण कुमार के निधन भी शोक जताया। विधानसभा अध्यक्ष ने फ्लाईंग सिक्ख के नाम से मशहूर भारतीय एथलीट मिल्खा सिंह, पूर्व एटार्नी जनरल सोली जहांगीर सोराबजी, वरिष्ठ साहित्यकार डॉ0 नरेंद्र कोहली, डोगरी भाषा की पहली आधुनिक कवियत्री और पद्मश्री पद्मा सचदेवा, पद्म भूषण से सम्मानित बंगाली कवि शंख घोष, शास्त्री गायक पद्भूषण पंडित राजन मिश्र, बांग्ला भाषा के लेखक बुद्धदेव गुहा और साहित्यकार डॉ0 भगवती शरण मिश्र के निधन पर भी शोक व्यक्त किया।
इस दौरान मुख्यमंत्री हेमंत सोरे, भाजपा विधायक विरंची नारायण, कांग्रेस विधायक दल के नेता सह संसदीय कार्यमंत्री आलमगीर आलम, श्रम मंत्री सह राजद विधायक दल के नेता सत्यानंद भोक्ता, आजसू पार्टी के सुदेश महतो, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के कमलेश कुमार सिंह, भाकपा-माले के विनोद कुमार सिंह, निर्दलीय विधायक सरयू राय और अमित कुमार ने भी शोक संवेदना व्यक्त किया।
सरयू राय ने कहा कि मॉनसून सत्र में सबसे बड़ा शोक प्रस्ताव आया है, जिसमें कई प्रख्यात राजनेता, साहित्यकार, बुद्धजीवी, खिलाड़ी, कलाकार, पत्रकार और अन्य प्रख्यात लोग शामिल है। राष्ट्रीय स्तर के डेढ़ अंत में दिवंगत आत्माओं की शांति के लिए कुछ पलों के लिए मौन रखने के बाद सभा की कार्यवाही सोमवार 6 सितंबर पूर्वाह्न 11 बजे तक के लिए स्थगित कर दिया गया।

%d bloggers like this: