अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

आज़ादी की अर्धशताब्दी बाद भी विकास से अछूता प्रयागराज का समहन टिकुरी गांव, अब जोह रहा बाट किसी दैवीय चमत्कार का

इलाहाबाद 12 अक्टूबर:- इलाहाबाद के मिर्जापुर हाईवे से सटा हुआ मेन सड़क के बगल में ही समहन टिकुरी गांव।
आप जब यहां की यात्रा करेंगे तो आपको एहसास होगा कि शायद यह गांव आज़ाद भारत का हिस्सा ही नहीं है। कहने को तो हम आजादी का अमृत महोत्सव मना चुके लेकिन इस गांव के लोग अभी तक पगडंडी के सहारे ही इलाहाबाद के मुख्य संपर्क मार्ग तक आने के लिए मजबूर हैं।
गांव का यह हाल यूपी की कल्याणकारी सरकार और प्रयागराज जिला प्रशासन की पोल खोल कर रख देता है। ताज़्जुब तो यह जानकर हुआ जब जानकारी मिली कि यह गांव निर्मल और अम्बेडकर जैसे प्रसिद्ध पुरस्कारों से
नवाजा भी जा चुका है।
गांव के लोगों का कहना है की देश आजाद जरूर हुआ है लेकिन मेजा ब्लाक उरुवा ग्राम पंचायत समहन टिकुरी के हम लोग आजाद नहीं हुए हैं।
गांव की कुल आबादी 900 है। मेजा के विधायक हैं नीलम करवरिया जो शायद स्वप्न में भी इस ओर अपना रुख करना पसंद नही करते।
अब यहां के लोग बस किसी दैवीय चमत्कार की प्रत्याशा में हैं कि शायद कोई चमत्कार हो जाये और किसी राजनीतिक प्रतिनिधि और प्रशासन का गांव के उद्धार के लिये हृदय द्रवित हो।

%d bloggers like this: