अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

कश्मीर में धार्मिक उल्लास के साथ मनाया गया ईद-अल-अजहा


श्रीनगर:- कश्मीर घाटी में बुधवार को कुर्बानी का पर्व ईद-अल-अजहा धार्मिक उत्साह और उल्लास के साथ मनाया गया।
इस अवसर पर उपराज्यपाल मनोज सिन्हा, उनके सलाहकारों, मुख्य सचिव और मुख्यधारा के राजनीति दलों तथा अलगाववादी संगठनों के नेताओं ने लोगों को बधाई दी और उनसे कोविड-19 के प्रसार से बचने के लिए निर्धारित मानक प्रक्रियाओं के अलावा मास्क पहनने और सामाजिक दूरी के पालन का आग्रह किया।
कश्मीर घाटी में आज सुबह से हो रही बारिश के बावजूद लोगों ने हजारों भेड़-बकरियों के अलावा अन्य जानवरों की कुर्बानी दी। कुर्बानी के बाद लोग जानवरों के मांस पड़ोसियों, दोस्तों और रिश्तेदारों और गरीबों में बांटते देखे गए।
श्रीनगर में लोगों ने हजरत इब्राहिम की बलिदान की भावना का सम्मान करते हुए अपने घरों और अन्य स्थानों पर जानवरों की कुर्बानी दी। इस अवसर पर लोगों ने एक-दूसरे को बधाई देने के लिए सोशल मीडिया का भी इस्तेमाल किया।
पूर्व मुख्यमंत्रियों डॉ. फारूक अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला, महबूबा मुफ्ती और अन्य नेताओं ने लोगों को बधाई दी और अमन एवं खुशहाली की दुआ की।
श्री सिन्हा ने अपने संदेश में कहा कि यह त्योहार समावेश की भावना का पर्व है और समाज के सभी वर्गों के बीच उदारता की भावना का समर्थन करता है। उन्होंने कहा, “इस पावन अवसर पर मैं सभी लोगों को अपनी शुभकामनाएं देता हूं और आशा करता हूं कि परोपकार और निस्वार्थ सेवा की भावना का प्रतीक ईद-अल-अजहा शांति और सद्भाव बढ़ायेगा।”उन्होंने प्रार्थना की यह त्योहार सभी संप्रदायों के बीच सद्भाव और सौहार्द के बंधन को गहरा करे और सभी के लिए अच्छे स्वास्थ्य के साथ जम्मू-कश्मीर में प्रगति और समृद्धि लाए। उन्होंने कोरोना की स्थिति देखते हुए, कोविड प्रोटोकॉल का पालन करते हुए सभी से घर पर ईद मनाने का आग्रह किया।

%d bloggers like this: