अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

सांप पकड़ने के बाद नशे में बुजुर्ग कर रहे थे मस्ती, डसने से हुई मौत


हजारीबाग:- नशे में डेगलाल अगेरिया को सांप के साथ मस्ती करना महंगा पड़ गया। मस्ती के बदले उन्हें अपनी जान गंवानी पड़ी। बताया जाता है कि टाटीझरिया प्रखंड की बेडम पंचायत के मंगरपट्टा गांव में कुंदन यादव के घर से कबूतर के लिए बनाए गए हांडी से धमना सांप को निकाला था। इसके बाद सांप को लेकर डेगलाल गांव की गली-गली में किसी सपेरे की तरह घूम रहा था। वह कभी सांप को हाथ में, तो कभी गले में लटे बताया कि वह शराब के नशे में धुत्त था और सांप को तंग कर रहा था। जिस कारण सांप ने उसे हाथ में डंस लिया। परिजनों और ग्रामीणों ने उसे इलाज और झाड़-फूंक कराने को कहा, लेकिन बुजुर्ग ने उनकी बातों को नजरअंदाज कर दिया। इस घटना के कुछ देर बाद उसकी मौत हो गई।
ग्रामीणों ने बताया कि इससे पहले भी उसने सांप पकड़ा था। तब उसे कुछ नहीं हुआ था। डेगलाल गांव में नाया भगत (पुजारी) भी था और आसपास के गांव में झाड़-फूंक का काम भी करता था। ग्रामीणों ने बताया कि वह अधबेसरा सांप था, जो धामिन और गेहूंमन का सम्मिश्रण था। धामिन विषहीन होता है, जबकि गेहूंमन विषाक्त सांप है। सांप की लंबाई छह से सात फीट थी। इस संबंध में नियो ह्यूमन फाउंडेशन के अध्यक्ष डॉ सत्यप्रकाश ने बताया कि धामिन में विष नहीं होता है। उसके डंसने से उसकी मौत नहीं हुई है। डंसने के बाद बैक्टिरियल इंफेक्शन से उसकी मौत संभव है।

%d bloggers like this: