अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

सिलसिला के वक्तव्य और सबूतों में विसंगति: खान


इस्लामाबाद:- पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने इस्लामाबाद में अफगान राजदूत की पुत्री से जुड़ी हालिया घटना पर टिप्पणी करते हुए कहा है कि अधिकारियों ने सिलसिला अलीखिल के रास्ते का सटीक चार्ट तैयार किया है। उन्होंने कहा कि टैक्सी चालकों का पता लगाया गया और उनसे पूछताछ की गई है। श्री खान ने अफगानी मीडिया प्रतिनिधियों की टिप्पणियों में कहा,“ दुर्भाग्य से, राजदूत की बेटी जो कह रही है और जो कैमरे में दिखता है, वह मेल नहीं खा रहा है। वह कहती है कि उसे एक टैक्सी में रखा गया, जबरन ले जाया गया और पीटा गया। लेकिन उस टैक्सी की एक तस्वीर है, जिसमें वह वहां आराम से बैठी है और वह ठीक है। ” उन्होंने कहा कि पुलिस ने सभी रिकॉर्ड हासिल कर लिए हैं लेकिन राजदूत की बेटी अफगानिस्तान वापस चली गई है, इसलिए इस बात की पुष्टि करने का कोई तरीका नहीं है कि क्या हुआ था। उन्होंने कहा कि अफगानिस्तान की जांच टीम को सारी जानकारी दी जाएगी ताकि उसके वापस जाने पर सिलसिला से पूछताछ कर सकें। इससे पूर्व अफगानिस्तान ने इस्लामाबाद स्थित अपने दूतावास के राजदूत की बेटी के अपहरण को लेकर पाकिस्तान के गृहमंत्री शेख राशिद अहमद की टिप्पणी पर गहरी नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा था कि ‘एकतरफा बयान’ और ‘गैर-पेशेवर पूर्वाग्रह’ चल रही जांच को लेकर सवाल खड़े करेंगे। अफगानिस्तान के विदेश मंत्रालय ने कहा कि अस्पताल की रिपोर्टों ने सुश्री सिलसिला अली खिल की मानसिक और शारीरिक यातना की पुष्टि की है। वह उम्मीद करते हैं कि जांच समाप्त होने से पहले गैर-पेशेवर पूर्वाग्रहों से बचा जाएगा। इसके साथ ही हम आग्रह करते हैं कि साक्ष्य जुटाने और जांच पूरी करने के साथ-साथ अपराधियों को गिरफ्तार करने और उन पर मुकदमा चलाने के लिए सभी प्रयास किए जाने चाहिए। अफगानिस्तान के विदेश मंत्रालय ने कहा कि हम दोनों पक्षों के प्रतिनिधिमंडलों के सहयोग से जांच प्रक्रिया में पूर्ण सहयोग के लिए प्रतिबद्ध हैं। वह इस घटना की वजहों का पता लगाने की उम्मीद करते हैं, और दोनों देशों की जांच टीमों के निष्कर्षों के आधार पर जांच परिणामों को जल्द ही अंतिम रूप देने और नतीजे घोषित घोषित किये जाने की उम्मीद करते हैं।
इससे पहले अफगानिस्तान के विदेश मंत्री मोहम्मद हनीफ अतमार ने अपने पाकिस्तानी समकक्ष शाह महमूद कुरैशी से बात की और अफगानिस्तान के राजदूत की बेटी के अपहरण मामले की चल रही जांच पर पाकिस्तान के गृह मंत्री शेख रशीद अहमद की टिप्पणी पर गहरी आपत्ति जतायी। उल्लेखनीय है कि पाकिस्तान के गृह मंत्री ने अफगानिस्तान और भारत पर तथ्यों को तोड़-मरोड़ कर पाकिस्तान को बदनाम करने का आरोप लगाया था। उन्होंने यह भी कहा था कि अधिकारियों को अफगानिस्तान के राजदूत की बेटी के अपहरण का कोई सबूत नहीं मिला है। श्री खान ने कहा, “ पाकिस्तान में 30 लाख अफगान शरणार्थी हैं, उनमें से लगभग सभी पश्तून हैं और अधिकांश की तालिबान के साथ सहानुभूति होगी। पाकिस्तान यह कैसे पता करेगा कि वहां कौन लड़ने जा रहा है जब हमारे पास हर दिन लगभग 30,000 लोग अफगानिस्तान से आते हैं। पाकिस्तान इसकी जानकारी कैसे कर सकता है?”
उन्होंने कहा,“ पाकिस्तान में हमारे पास 30 लाख शरणार्थी हैं। पाकिस्तान को कैसे जिम्मेदार ठहराया जा सकता है? इन शिविरों में 100,000 से 500,000 लोग रह रहे हैं। ”श्री खान ने कहा कि पाकिस्तान के लिए शरणार्थी शिविरों के माध्यम से यह पता लगाना संभव नहीं है कि कौन तालिबान समर्थक है और कौन नहीं, उन्होंने कहा कि हाल तक दोनों देशों के बीच कोई भौतिक सीमा नहीं थी। उन्होंने अफगानिस्तान और पाकिस्तान के बीच 2640 किलोमीटर लंबी सीमा का जिक्र करते हुए कहा,“ डूरंड रेखा काल्पनिक थी। पाकिस्तान ने सीमा पर बाड़ लगाने का 90 प्रतिशत काम पूरा कर लिया है। ” उन्होंने कहा कि अफगानिस्तान में गृह युद्ध छिड़ना पाकिस्तान के हित में नहीं है। उन्होंने कहा, “अफगानिस्तान पर कब्जा करने के लिए किसी का समर्थन करने में पाकिस्तान की क्या दिलचस्पी हो सकती है?”

%d bloggers like this: