अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

डायरिया ने किया पांव पसारना शुरू, ग्रामीणों में दहशत का माहौल


नक्सल प्रभावित लावालौंग प्रखंड के दर्जन से ज्यादा डायरिया की चपेट में
चतरा:- चतरा जिला में एक बार फिर डायरिया बीमारी ने पांव पसारना शुरू कर दिया है। इससे गांव के लोगों में दहशत है। कई बीमार रोगियों का हजारीबाग और चतरा में इलाज किया जा रहा है। जबकि कुछ लोग गांव में ही ठीक होकर दहशत के माहौल में जिंदगी जी रहे हैं। जिला मुख्यालय से करीब 30 किलोमीटर की दूरी पर स्थित लावालौग प्रखंड के मूर्तियांटांड़ गांव को डायरिया ने पूरी तरह अपनी चपेट में ले लिया है। इससे गांव के लोगों को इस बीमारी से किसी अनहोनी की चिंता सता रही है। ग्रामीणों का कहना है कि अब तक करीब एक दर्जन से अधिक लोग डायरिया से बीमार हो चुके हैं। जिसमें 4 लोगों का हजारीबाग के सरकारी अस्पताल में इलाज हो रहा है। जबकि चार अन्य का चतरा सदर अस्पताल में। हालांकि इसके अलावा गांव के कई लोग भी डायरिया की चपेट में है। जिन्हें उल्टी और दस्त की बीमारी हो रही है। गांव वालों का कहना है कि स्वास्थ्य विभाग द्वारा अनुसूचित जनजाति बहुल गांव होने के बावजूद न तो ब्लीचिंग पाउडर का छिड़काव किया जा रहा है ना ही कोई सरकारी अन्य सुविधाएं दी जा रही है। इसलिए डायरिया बीमारी पूरे गांव को चपेट में ले रहा है। गांव वालों ने सरकार से गुहार लगाई है कि गांव में स्वास्थ्य विभाग की टीम के द्वारा उचित कदम उठाए ताकि गांव के लोग डायरिया की चपेट में आने से बच सकें। हालांकि मीडिया के हस्तक्षेप के बाद गांव में मेडिकल टीम भिजवाकर बीमार अन्य लोगों को सदर अस्पताल लाने की कवायद शुरू हो गई है।

%d bloggers like this: