अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

नर्सरी से ऊपर के बच्चों के लिए स्कूल खोलने की मांग


रांची:- झारखण्ड प्रदेश पासवा का प्रतिनिधिमंडल प्रदेश अध्यक्ष आलोक कुमार दूबे के नेतृत्व में नर्सरी से ऊपर के बच्चों के स्कूल खोलने की मांग को लेकर, 2019 में रघुवर दास शासनकाल में आरटीई में किए गए संशोधन को निरस्त करने एवं प्रति वर्ष निजी विद्यालयों को मान्यता के नाम पर परेशान करने एवं मान्यता हेतु जमीन की बाध्यता कानून को समाप्त करने की मांग को लेकर कैबिनेट के पूर्व झारखंड सरकार के वित्त मंत्री डॉ रामेश्वर उरांव से मुलाकात किया। प्रतिनिधिमंडल में पासवा के प्रदेश उपाध्यक्ष लाल किशोर नाथ शाहदेव,महासचिव डा.राजेश गुप्ता छोटू, रांची महानगर पासवा की प्रभारी डॉ सुषमा केरकेट्टा, पूर्वी सिंहभूम जिला पासवा अध्यक्ष रमण झा, प्रदेश सचिव संजय कुमार एवं संजय महतो मुख्य रूप से शामिल थे।
पासवा की ओर से इस बात के लिए मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन के प्रति आभार प्रकट किया गया कि उन्होंने हमेशा पठन पाठन को लेकर गंभीरता दिखाई है।पासवा के अनुरोध पर झारखंड सरकार के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने संजीदगी दिखाते हुए पहले कक्षा 9 से 12 तक, फिर कक्षा 1 से 8 तक के स्कूल खोलने का काम किया, लेकिन अब आम लोगों की भी यह राय है बिना देर किए हुए नर्सरी से ऊपर के बच्चों का भी स्कूल खुल जानी चाहिए।
पासवा ने झारखंड सरकार से कैबिनेट में और आपदा प्रबंधन की बैठक में इस बात का फैसला किए जाने का अनुरोध किया है कि अब सभी कक्षा के बच्चों का स्कूल खुल जाना चाहिए।इस संदर्भ में डा. रामेश्वर उराँव ने कहा कि इस संदर्भ में कैबिनेट के सहयोगियों से चर्चा करेंगे और माननीय मुख्यमंत्री जी से स्कूल खोलने पर बात करेंगे।
इस बीच प्रदेश अध्यक्ष आलोक कुमार दूबे ने कहा है कि एक तरफ सरकारी विद्यालय दो तीन चार कमरों में संचालित होते हैं वहीं निजी विद्यालयों के लिए एक एकड़ जमीन व 30 वर्ष का लीज, प्रति वर्ष मान्यता के लिए पच्चीस हजार से एक लाख रुपये के चालान की मांग दोहरे मापदंड को दर्शाता है, पूरे देश में आरटीई का एक कानून है,सिर्फ झारखंड में रघुवर दास ने 2019 में कानून को बदलने का काम किया जिसका नतीजा यह है आठवीं कक्षा के लाखों विद्यार्थी परीक्षा देने से वंचित रह जाएंगे और अगर ऐसा हुआ तो बच्चों का भविष्य बर्बाद हो जाएगा। प्रदेश अध्यक्ष आलोक दूबे ने कहा कि इस संदर्भ में कल पासवा का एक उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से मुलाकात करेगा।

%d bloggers like this: