अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

मानव श्रृंखला बनाकर सीएनटी एक्ट में थाना क्षेत्र की बाध्यता को खत्म करने की मांग


रांची:- आदिवासियों के ज्वलंत मुद्दाओं को लेकर पूरे झारखंड राज्य में अपने जायज मांग के हित में आदिवासी समुदाय द्वारा झमा-झमा बारिश में भी हजारों-हजार की संख्या में सड़क में विशाल मानव श्रृंखला बनाकर अपनी आवाज को बुलंद करते हुए गढ़वा, लातेहार, गिरिडीह, चाईबासा, पाकुड़, राँची, खूंटी, लोहरदगा, सिमडेगा, रामगढ़, गुमला और विभिन्न जिलों में तख्ती बैनर के माध्यम से आदिवासी समुदाय द्वारा झारखंड सरकार तक अपनी मांग को रखा गया।
आदिवासियों के हित के लिए सीएनटी एक्ट में थाना क्षेत्र के बाध्यता खत्म हो। जाति प्रमाण पत्र की विसंगतियों को समाप्त कर सरलीकरण किया जाए। आदिवासी महिला गैर आदिवासी से शादी करती है तो महिला को एसटी का लाभ से वंचित किया जाए।
इसे लेकर संयुक्त आदिवासी सामाजिक संगठन के अरविंद उराँव, निरंजना हेरेंज टोप्पो, कुलभूषण डूंगडूंग ने झारखंड सरकार को इस मुहिम से संबंधित ज्ञापन झारखंड विधानसभा के पक्ष विपक्ष माननीय विधायकों मंत्रियों सहित माननीय मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन झारखंड सरकार को दिया जा चुका है। संगठन के नेताओं ने संयुक्त रूप से कहा कि यदि सरकार हमारी मांग को इस मानसून सत्र में पहल नहीं करती है तो भविष्य में संपूर्ण झारखंड में व्यापक आंदोलन किया जाएगा।
राजधानी राँची में इस मुद्दे को लेकर कई चौक चौराहे में हजारों-हजार की संख्या में लोवाडीह, बिरसा चौक, बूटी मोड़, भूसूर, डिवाडीह, अरगोड़ा, खेल गाँव, गाड़ी गाँव, पिथोरिया और ओरमांझी अनगड़ा, काकें में महिला पुरुष शामिल हुए इस मुहिम में चंदन हलदर पहन, उमेश पहन, अनूप नेलसन खलखो, प्रवीण कच्छप सुरेंद्र लिंडा, बाबूलाल महली, अजीत उराँव, रंजीत उराँव, कृष्टमणि तिर्की, बिना कुजुर, सुनीता कच्छप, प्रदीप खालखो, एलेक्स लकड़ा, विकास मींज ने हम योगदान दिया भवदीय अरविंद उराँव, निरंजना हेरेंज टोप्पो

%d bloggers like this: