अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

ऑनलाइन क्लास के अनुसार शुल्क निर्धारित की मांग

रांची:- इस वैश्विक महामारी के कारण पिछले 16 महीनो से देश एवम झारखण्ड राज्य के सभी कोटि के स्कूल बंद है अभिभावक लॉक डाउन समय की फीस माफी की मांग और स्कूल ना खुलने तक ऑन लाइन क्लास के अनुसार फीस निर्धारण की मांग लगातार राज्य की सरकार से कर रहे है लेकिन सरकार अभिभावको की आवाज को अनसुना कर चुप्पी साधे हुए है। उक्त बाते आज रांची के ऑक्सफ़ोर्ड पब्लिक स्कूल के अभिभावकों द्वारा रखी गई वर्चुअल बैठक को सम्बोधित करते हुए झारखण्ड अभिभावक संघ के अध्यक्ष अजय राय ने कही। बैठक की अध्यक्षता विकास सिन्हा ने किया।
अजय राय ने कहा की जब रांची के उपायुक्त छवि रंजन अपने 25 जून को दिए हुए आदेश को वापस लेते हुए पेरेंट्स के लिए गोल मोल बाते कर निजी स्कूलों को सीधा सरक्षण देने का काम किया है जिसका उदाहरण खुद का आदेश वापस लेना है। उन्होंने कहा की जिला प्रशासन के हाथ सरकार के आदेश के साथ बंधे है और जिला प्रशासन भी अपने विवेक से कोई निर्णय नही लेना चाहता है शायद जनता द्वारा दी गई कलम की शक्ति और निर्णय लेने की क्षमता को इन्होंने स्कूलों के समक्ष गिरवी रख दिया है।
अजय राय ने कहा की अभिभावक संघ की ओर से आयोजित आन्दोलन में अभिभावको ने सरकार तक अपनी आवाज पहुचाने के लिए कोई कसर नही छोड़ी क्योकि सत्ता में बैठे हुये नीतिनिर्धारकों के ही अधिकतर निजी स्कूल है या आप कह सकते है प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से सरक्षण प्राप्त है इसलिये इस मुद्दे पर सभी एक मंच पर साथ खड़े होकर चुप्पी साध लेते है जिसका प्रमाण आप और हम देख रहे है साथियो अब सवाल यह उठता है कि आखिर अभिभावक करे तो क्या करे इसका जबाब है जब शासन ,सत्ता और न्याय तंत्र एक साथ मिल जाये तो जनता को मतलब अभिभावको को अपने निर्णय खुद करने होंगे और न्याय के लिए खुद आवाज बुलंद करनी होगी।
इस अवसर पर विकास सिन्हा ने कहा की स्कूल में शुल्क निर्धारण कमिटी का गठन होना बेहद जरुरी है साथ ही अभिभावक संघ का भी गठन सप्ताह भर में कर लिया जायेगा।
इस अवसर पर अभिनव मिश्रा ,अदीब इक़बाल,अदिति लकड़ा ,आकृति रानी ,अंकिता सरकार ,अंश तिवारी ,आराध्या झा ,आरिस इकबाल ,डी मेहता ,ओमप्रकाश शर्मा ,मनीष कुमार ,मनोज कुमार ,मो असद आलम ,राजू कुमार सोनी ,रीना कुमारी ,साहिल राज ,सुदीप प्रकाश ,सुप्रिया ,सूरज मिंज ,वर्षा नाग ,ज़ैद अहमद ,ज़रका जावेद ,सान्वी कुमारी सहित काफी सख्या में अभिभावक शामिल हुए।

%d bloggers like this: