अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल आज पहुंचेंगे गोवा, राज्य के लोगों से कर चुके हैं ये वादा


नयी दिल्ली:- दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल रविवार को गोवा आएंगे। आम आदमी पार्टी के सूत्रों के अनुसार, वह 1. 45 बजे के आसपास गोवा स्थित डेबोलिम हवाई अड्डे पर पहुंचेंगे। इससे पहले केजरीवाल ने एक नवंबर को राज्य का दौरा किया था, जहां उन्होंने गोवा की जनता से वादा किया कि अगर उनकी पार्टी सत्ता में आती है तो वह लोगों को निशुल्क तीर्थ यात्रा कराएंगे। गोवा में अगले साल की शुरुआत में चुनाव होंगे।
NCB के समीर वानखेड़े आर्यन खान को अगवा करने की साजिश का हिस्सा थे: नवाब मलिक का दावा
नयी दिल्ली, महाराष्ट्र के मंत्री नवाब मलिक ने रविवार को आरोप लगाया कि स्वापक नियंत्रण ब्यूरो (एनसीबी) के मुंबई क्षेत्र के निदेशक समीर वानखेड़े अभिनेता शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान को ‘‘अगवा” करने की साजिश में शामिल थे। मलिक ने यहां संवाददाताओं से बातचीत में दावा किया कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता मोहित भारतीय इस साजिश के ‘‘मास्टरमाइंड” थे। पिछले महीने वानखेड़े के नेतृत्व में एक क्रूज पोत पर की गई छापेमारी के बाद आर्यन खान को गिरफ्तार किया गया था और पोत से कथित तौर पर मादक पदार्थ बरामद किया गया था। बाद में आर्यन को बंबई उच्च न्यायालय से जमानत मिल गई। मलिक ने कई बार कहा है कि मादक पदार्थ जब्ती का यह मामला ‘‘फर्जी” है और उन्होंने वानखेड़े के खिलाफ गंभीर आरोप लगाए। उन्होंने दावा किया कि वानखेड़े ने ओशिवारा में एक कब्रिस्तान में भारतीय से मुलाकात की थी।
18 करोड़ रुपये में तय हुआ था सौदा
मलिक ने कहा, ‘‘लेकिन वह (वानखेड़े) खुशकिस्मत थे कि हमें इस मुलाकात का वीडियो फुटेज नहीं मिला क्योंकि पुलिस का सीसीटीवी काम नहीं कर रहा था। इसलिए बिना किसी डर के वानखेड़े ने गलत शिकायत दर्ज कराई कि उनका पीछा किया गया था।” राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के नेता ने आरोप लगाया, ‘‘कथित क्रूज पोत रेव पार्टी फिरौती के लिए आर्यन खान के अपहरण की एक साजिश थी जिसके मुख्य सरगना मोहित भारतीय थे।” वानखेड़े पर साजिश में शामिल होने का आरोप लगाते हुए उन्होंने दावा किया कि भारतीय वानखेड़े के ‘‘निजी गुट” के सहयोगी थे। मलिक ने अभिनेता शाहरुख खान से आगे आने और अन्याय के खिलाफ उनकी लड़ाई का समर्थन करने की अपील की। उन्होंने वानखेड़े पर मादक पदार्थ बेचने वालों और तस्करों का बचाव करने और नशीली दवाओं के उपभोक्ताओं में भय पैदा करने का आरोप लगाया। उन्होंने दावा किया कि आर्यन खान के अपहरण का जाल भारतीय के बहनोई ऋषभ सचदेवा के माध्यम से रचा गया था। उन्होंने दावा किया, ‘‘25 करोड़ रुपये मांगे गए थे और सौदा 18 करोड़ रुपये में तय हुआ था… 50 लाख रुपये दिए गए थे।
आर्यन खान को क्रूज पार्टी में ले जाया गया
सौदे की बात बिगड़ गई क्योंकि केपी गोसावी (क्रूज ड्रग्स मामले में एनसीबी के गवाह) की आर्यन के साथ सेल्फी, गिरफ्तारी के बाद वायरल हो गई।” मंत्री ने आगे कहा कि शाहरुख खान को यह कहकर डराने की कोशिश की गई है कि उन्होंने ‘‘50 लाख रुपये की राशि दी है” इसलिए वह भी एक आरोपी बन गए हैं। मलिक ने कहा, ‘‘मैं उनसे अपील करता हूं कि वह डरें नहीं। अगर आपके बच्चे का अपहरण कर लिया गया है और फिरौती मांगी गई है और माता-पिता ने भुगतान किया है तो पीड़ित वो हैं, बल्कि आरोपी नहीं हैं।” उन्होंने दावा किया कि आर्यन खान को प्रतीक गाबा और आमिर फर्नीचरवाला क्रूज पार्टी में ले गए। उन्होंने कहा कि सचदेवा, गाबा और फर्नीचरवाला को एनसीबी ने छोड़ दिया था। उन्होंने दावा किया, ‘‘क्रूज पार्टी के आयोजक काशिफ खान ने राज्य के मंत्री असलम शेख और शीर्ष मंत्रियों के बच्चों को पार्टी में आने के लिए आमंत्रित करने की बहुत कोशिश की थी।” मंत्री ने कहा, ‘‘आर्यन खान और समीर खान (मलिक के दामाद) के मामलों के अलावा सभी 26 मामलों (एनसीबी द्वारा जांच की जा रही) को एसआईटी को जांच के लिए दिया जाना चाहिए।
मेरी लड़ाई एनसीबी या भाजपा के खिलाफ नहीं
अगर मेरे दामाद को फिर से जेल में डालकर मुझे डराने का प्रयास किया जाता है, तो मैं स्पष्ट कर दूं कि मैं डरा हुआ नहीं हूं।” मलिक के दामाद को इस साल जनवरी में एनसीबी ने कथित ड्रग्स मामले में गिरफ्तार किया था और सितंबर में उन्हें जमानत दे दी गई थी। मंत्री ने कहा कि सैम डिसूजा का असली नाम सैमविले है, जिसका नाम क्रूज ड्रग्स मामले में भुगतान के आरोपों के संबंध में सामने आया था और उसे इस साल जून में एनसीबी अधिकारी वीवी सिंह ने पूछताछ के लिए बुलाया था। मलिक ने मामले के ब्योरे का खुलासा किए बिना सवाल किया, ‘‘उसे अब तक गिरफ्तार क्यों नहीं किया गया?” उन्होंने यह भी कहा कि एनसीबी ने गुजरात सरकार की फोरेंसिक लैब रिपोर्ट को चुनौती दी थी जिसमें कथित ड्रग्स मामले में उनके दामाद को एनडीपीएस अदालत में क्लीन चिट दी गई थी। मलिक ने एनसीबी और भाजपा से दागी लोगों को ‘संरक्षण’ नहीं करने की अपील की। उन्होंने कहा, ‘‘मेरी लड़ाई एनसीबी या भाजपा के खिलाफ नहीं है। यह लड़ाई गलत कामों में लिप्त लोगों के खिलाफ है। कृपया मेरा समर्थन करें। मैं नशा उन्मूलन का भी समर्थन करता हूं।” मलिक ने यह भी मांग की कि एनसीबी की ‘‘चौकड़ी” – वानखेड़े, वी वी सिंह, आशीष रंजन और वानखेड़े के ड्राइवर माने के खिलाफ कार्रवाई की जाए। उन्होंने आरोप लगाया किया कि ये सभी एनसीबी के क्षेत्रीय कार्यालय में ‘‘गलत कामों” में शामिल थे।

%d bloggers like this: