अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

दिल्ली: कल बीजेपी की संसदीय दल की बैठक, सभी सांसदों को उपस्थित रहने के निर्देश, इन मुद्दों पर हो सकती है चर्चा


नई दिल्ली:- भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने मंगलवार को पार्टी के संसदीय दल की बैठक बुलाई है. यह बैठक दिल्ली स्थित डॉ. अंबेडकर इंटरनेशनल सेंटर में आयोजित की जाएगी. पार्टी नेतृत्व की तरफ से इस बैठक में बीजेपी के सभी लोकसभा और राज्यसभा सांसदों को उपस्थित रहने को कहा गया है.
इस बैठक में संसद के शीतकालीन सत्र में आगे की रणनीति पर चर्चा होने की उम्मीद है. वहीं, गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी को लेकर विपक्ष के कड़े रवैये पर भी चर्चा हो सकती है. यह बैठक मंगलवार की सुबह सवा 9 बजे शुरू होगी. हालांकि, पार्टी की तरफ से बैठक के मकसद को लेकर कुछ भी क्लियर नहीं किया गया है.
बता दें कि संसद सत्र के दौरान आमतौर पर हर मंगलवार को भाजपा संसदीय दल की बैठक होती है. विपक्ष लगातार लखीमपुर खीरी मुद्दे पर सरकार पर हमलावर है. कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने सोमवार को सरकार पर जनता से जुड़े मुद्दों पर संसद में चर्चा नहीं कराने का आरोप लगाया और दावा किया कि उनकी ओर से लद्दाख के विषय को नहीं उठाने दिया गया.
कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और उनकी पार्टी के नेता लगातार सदन में लखीमपुर खीरी मामले पर चर्चा की मांग कर रहे हैं. उन्होंने आरोप लगाया कि सरकार जनता से जुड़े विषयों पर चर्चा नहीं हो देती.
एक सवाल के जवाब में राहुल गांधी ने कहा कि सदन चलाने की जिम्मेदारी विपक्ष की नहीं, बल्कि सरकार की होती है. उन्होंने यह भी कहा कि गृह राज्य मंत्री अजय कुमार मिश्रा को बर्खस्त किया जाना चाहिए और सदन में लखीमपुर खीरी मामले को लेकर चर्चा होनी चाहिए.
राज्यसभा के 12 विपक्षी सांसदों के निलंबन पर भी हो सकती है चर्चा
राज्यसभा के 12 विपक्षी सांसदों के निलंबन के मामले पर सरकार और विपक्ष आमने सामने है. न ही सरकार उनके निलंबन को वापस लेने के पक्ष में है और न ही विपक्ष इसके लिए माफी मांगने को तैयार है. केंद्र की तरफ से आज निलंबित सांसदों के दलों को बैठक के लिए बुलाया था लेकिन विपक्ष ने बैठक में शामिल होने से इनकार कर दिया.
केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने कहा, बहुत खेद के साथ कहना पड़ रहा है कि केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद जोशी ने सभापति के आदेश और विपक्ष बार-बार कह रहा था इसलिए आज बैठक बुलाई थी. लेकिन दुर्भाग्य की बात है कि वो बैठक तक के लिए नहीं आए.
उन्होंने कहा, अगर वो अपनी गलती स्वीकारते हैं और माफी मांगते हैं तो मुझे लगता है कि उसमें कोई छोटा नहीं होता. उससे सदन की गरिमा बढ़ेगी.
वहीं, कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा, अजय मिश्रा टेनी को फौरन हटाना चाहिए. जनता देख रही है, उन्हें आख़िर क्यों नहीं हटा रहे हैं. अजय मिश्रा टेनी में क्या ख़ूबी है? इस अन्याय के खिलाफ हम लड़ रहे हैं.

%d bloggers like this: