अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

दरभंगा : नेशनल ई-गवर्नेंस एवार्ड के लिए ‘वंडर एप’ का किया गया आकलन

दरभंगा:- बिहार में गर्भवती महिलाओं की स्वास्थ्य निगरानी एवं स्वास्थ्य जटिलता के दौरान ससमय ईलाज उपलब्ध कराने के लिए चर्चित ‘वंडर एप’ नेशनल ई-गवर्नेंस अवार्ड के चयन प्रक्रिया के अंतिम दौर में पहुंच गया है। दरभंगा के जिलाधिकारी डॉ. त्यागराजन एस.एम. के प्रयास से बनाए गए ‘वंडर एप’ के माध्यम से गर्भवती महिलाओं को ससमय ईलाज मिलने में काफी सहूलियत मिली है। नेशनल ई-गवर्नेंस अवार्ड के अंतिम दौर के चयन प्रक्रिया के लिए प्रशासनिक सुधार और लोक शिकायत विभाग के सचिव सहित 16 सदस्यीय समिति द्वारा एप के अंतर्गत किये जा रहे कार्यों की विस्तृत जानकारी ली गयी है। राष्ट्रीय सूचना-विज्ञान केन्द्र (एनआईसी), दरभंगा से ऑनलाइन जुड़े जिलाधिकारी डॉ. त्यागराजन ने वंडर एप के अंतर्गत किये जा रहे कार्यों की विस्तृत जानकारी समिति को दी है। चयन समिति ने एप से संबंधित कई सवाल किए, जिनके जवाब जिलाधिकारी ने दिये। चयन समिति ने गर्भवती महिलाओं के स्वास्थ्य निगरानी के लिए एप के अंतर्गत किये जा रहे कार्यों की भूरी-भूरी प्रशंसा की है। उल्लेखनीय है कि वंडर एप में गर्भवती महिलाओं की पहचान कर उनका निबंधन किया जाता है। उनकी चिकित्सीय जांच की जाती है तथा चिकित्सीय इतिहास एवं अद्यतन चिकित्सीय जाँच प्रतिवेदन को वंडर एप्प पर अपलोड किया जाता है। इसके लिए चिकित्सकों, सभी एन.एन.एम., सेविका/सहायिका एवं आशा कार्यकर्त्ता को प्रशिक्षण दिलाया गया है। इस एप में तीन वर्ग निर्धारित है। एक सामान्य गर्भवती महिलाओं के लिए, दूसरा हल्की चिकित्सीय समस्या वाली गर्भवती महिला, (जिन्हें यलो ग्रुप में) तथा तीसरा गंभीर चिकित्सीय समस्या वाली गर्भवती महिला (जिन्हें रेड ग्रुप) में रखा जाता है। जैसे ही किसी गर्भवती महिला को रेड ग्रुप में डाला जाता है, संबंधित चिकित्सक एवं पारा मेडिकल स्टॉफ के मोबाईल पर एलर्ट जारी हो जाता है और इस प्रकार गंभीर समस्याग्रस्त गर्भवती महिला का ईलाज ससमय प्रारंभ हो जाता है।

%d bloggers like this: