January 20, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

वज्रपात के कहर से बचने के लिए दामिनी मोबाइल एप्लीकेशन

राँची:- झारखंड के पठारीय प्रदेश होने के कारण वज्रपात जैसी प्राकृतिक आपदा की भी आशंका लगातार बनी रहती है। वज्रपात से व्यक्ति की मौत के साथ पेड़ों को नुकसान के अलावा प्रत्येक वर्ष कई मवेशियों की भी मौत हो जाती है।
इसके कहर से बचने के लिए पृथ्वी विज्ञान विभाग, भारत सरकार की पहल पर दामिनी नाम का एक मोबाइल ऐप्लिकेशन विकसित किया है। इस मोबाइल एप के द्वारा ठनका के पूर्वानुमान का पता चलता है।
रामगढ़ जिला प्रशासन ने प्राकृतिक आपदा ठनका के कहर से बचने के लिए दामिनी मोबाइल एप्लीकेशन को इस्तेमाल करने पर बल दिया है। रामगढ़ स्थित कृषि विज्ञान केंद्र ने जिले में इस मोबाइल ऐप्प के प्रचार तथा प्रसार का जिम्मा उठाया है जिससे आसमानी बिजली से अधिक से अधिक लोग बच सकें। पिछले वर्ष ठनका गिरने से रामगढ़ जिले में 23 लोगों सहित अनेक मवेशियों की जान चली गई थी। ग्रामीण मौसम सेवा के तहत सप्ताह में दो बार मौसम पूर्वानुमान सहित कृषि परामर्श बुलिटिन केंद्र के द्वारा जारी की जाती है उस बुलेटिन में भी इस ऐप की जानकारी एवं उपयोग करने का तरीका अवश्य अंकित किया जाता है। इस ऐप को मोबाइल फोन में गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड किया जा सकता है। यह एप्प पूरे देश के नेटवर्क प्रणाली से जुड़ कर वज्रपात की गति तथा गिरने के स्थान की सटीक जानकारी देते हुए बिजली की गड़गड़ाहट एवम ठनका के रफ्तार के बारे में भी बताया हैं। यह ऐप्प दस वर्ग किलोमीटर के दायरे में ठनका गिरने वाली स्थान के साथ इससे बचाव की जानकारी भी उपलब्ध कराता है। इस मामले में कृषि विज्ञान केंद्र रामगढ़ के प्रभारी डॉ दुष्यंत कुमार राघव ने बताया कि इस ऐप्प के इस्तेमाल से कम से कम जान माल के नुकसान से लोग बच सकते हैं।

Recent Posts

%d bloggers like this: