अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

झारखंड में निवेश के साथ डालमिया भारत ने राष्ट्र निर्माण के संकल्प को मजबूत किया

रांची:- झारखंड, दिसंबर 4, 2021, भारत में सीमेंट क्षेत्र की अग्रणी व डालमिया भारत लिमिटेड की सहायक कंपनी डालमिया सीमेंट (भारत) लिमिटेड ने झारखंड में महत्वपूर्ण निवेश के साथ राष्ट्र निर्माण के अपने संकल्प को और मजबूत बनाया है।
कंपनी की समावेशी विकास व वृद्धि की अवधारणा के तहत इसने बोकारो में 16 गांवों और 6 ग्राम पंचायतों के साथ अपने कई सामाजिक एवं पर्यावरण संबंधी कार्यक्रमों के लिए साझेदारी की है जिससे प्रदेश में लगभग 20000 लोगों के जीवन पर सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा।

हाल ही में झारखंड सरकार के साथ हस्ताक्षरित समझौता ज्ञापनों के क्रम में कुल निवेश 758 करोड़ रुपये का किया जा रहा है। इसमें बोकारो की ग्राइंडिग यूनिट की स्थापना के लिए किया जा रहा 567 करोड़ रुपये का निवेश शामिल है जोकि कुल क्षमता में 2.6 मिलियन टन प्रति वर्ष (एमटीपीए) की वृद्धि करते हुए इसे 6.3 एमटीपीए कर देगी।

कार्बन फुटप्रिंट को घटाने के कंपनी के सतत उद्देश्य को आगे बढ़ाते हुए कुल निवेश में सौर उर्जा संयंत्र के लिए किया जाने वाला 250 करोड़ रुपये, व ठोस कूड़े के प्रबंधन के लिए रांची म्युनिसिपल कारपोरेशन को कूड़ा एकत्र करने के साथ लंबे समय से एकत्र होने वाले कूड़े की बायो माइनिंग की सुविधा प्रदान करने के लिए 8 करोड़ रुपये का निवेश शामिल है।

झारखंड में निवेश के जरिए कंपनी की राष्ट्र निर्माण के लिए प्रतिबद्धता पर बोलते हुए डालमिया भारत लिमिटेड के प्रबंध निदेशक श्री पुनीत डालमिया ने कहा जिस तरह से हम देश के पूर्वी हिस्से में और भी निवेश कर इसके आर्थिक विकास की गाथा में सहयोगी बन रहे हैं, उसी तरह से हम एक कारपोरेट के तौर पर अपनी जिम्मेदारी को समझते हुए पर्यावरण संरक्षण व इसके सामाजिक प्रभावों को गंभीरता से लेते हुए इसे सर्वाधिक महत्व दे रहे हैं। हमें विश्वास है कि हमारे निवेशों के जरिए सृजित होने वाले रोजगार व सांमाजिक पहलकदमी से होने वाले कौशल विकास एक एसा प्रगतिशील इकोसिस्टम बनाने में मदद करेगा जिससे हम लोगों को स्वतंत्र एवं आत्मनिर्भर बनाने में मदद कर सकेंगे। हम अपने वाणिज्यिक, सामाजिक सहित अन्य सतत लक्ष्यों की प्राप्ति के उद्देश्य के साथ राज्य सरकार के साथ सहयोगी बनते हुए खुशी का अनुभव करने के साथ उत्साहित हैं। जहां कंपनी अपने बोकारो संयंत्र की जल्द होने वाले शुरुआत के लिए तैयारी कर रही है जिसका उद्घाटन झारखंड के माननीय मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन करेंगे वहीं यह पर्यावरण कार्यवाहियों, जीविका सृजन, रोजगार के लिए कौशल प्रशिक्षण व समाजिक विकास जैसी कुछ आवश्यक महत्वपूर्ण सामाजिक व पर्यावरणीय चुनौतियों का भी भलीभांति निदान कर रही है’। बोकारो में निवेश व सामुदायिक पहलकदमियों पर टिप्पड़ी करते हुए डालमिया सीमेंट (भारत) लिमिटेड के एमडी एवं सीईओ, श्री महेन्द्र सिंघी ने कहासरकार और बोकारो के समुदाय के सतत सहयोग से झारखंड में हमारे औद्योगिक व सामाजिक प्रयासों का नतीजा दिखने लगा है। हम बहुत आभारी हैं और लगातार देश के विकास में अपने पर्यावरण अनुकूल इंफ्रास्ट्रक्चर, स्वच्छ उर्जा एवं जल सहित सीएसआर प्रयासों के जरिए सहयोग करते रहेंगे। उन्होंने आगे कहा कि वाणिज्यिक मोर्चे पर इस क्षेत्र में बोकारो यूनिट के संचालन की शुरुआत एक मील का पत्थर है और इसी के साथ कंपनी ने 2024 तक अपनी सीमेंट उत्पादन क्षमता को वर्तमान के 33 मिलियन टन से बढ़ाकर 48.5 मिलिटन टन करने की लंबी यात्रा शुरु कर दी है।
कंपनी की समावेशी विकास व वृद्धि की रणनीति के चलते इसने समुदायों के दीर्घकालिक लाभ के लिए चिन्हित क्षेत्रों में केंद्रित हस्तक्षेप किया है। बोकारो में कंपनी की ओर शुरु किए गए व लगातार चल रहे कुछ प्रयासों में से निम्न हैं।
कोविड बचाव एवं टीकाकरण की पहल— कोविड बचाव के लिए सीएम रिलीफ फंड में 60 लाख रुपये के सहयोग के साथ समुदायों व कर्मियों के लिए कोविड टीकाकरण अभियान चलाया। आज बोकारो यूनिट का शत प्रतिशत टीकाकरण हो चुका है।
जल संरक्षण के लिए सीएसआर— अपनी रेनवाटर हार्वेस्टिंग प्रयासों से डालमिया भारत लिमिटेड ने गावों में मौजूद 13 तालाबों की क्षमता में वृद्धि करते हुए सालाना 1.72 करोड़ किलोलीटर जल संरक्षण किया है।
कंपनी ने सफाई कर सूखे कुओं को उपयोग लायक बनाया, चेक डैमों के निर्माण के साथ भूजल स्तर को सौ फीसदी तक उपर पहुंचाया। इससे 11000 लोगों को लाभ पहुंचा।
उर्जा संरक्षण व हरित पहल—-15 गांवों में 5000 से ज्यादा पेंड़ो के पौधे लगावाए गए। कंपनी ने 14 गावों में 982 एलईडी स्ट्रीट लाइट लगायी हैं।
आजीविका सृजन — लगभग 500 महिलाओं को बकरी पालन, मशरुम उत्पादन, झाड़ू बनाने, साफ्ट टाय बनाने, टेलरिंग, ब्यूटीशियन कोर्स आदि का कौशल प्रशिक्षण प्रदान कर सशक्त बनाया।
कौशल प्रशिक्षण —– 500 स्कूली छात्रों व श्रमिकों को 2019-20 में डिजिटली साक्षर बनाया
सामाजिक ढांचागत विकास एवं स्वच्छता —– छह कुओं का निर्माण/पुनर्निर्माण, शौचालय ब्लाकों का निर्माण कर स्कूलों का सहयोग किया। कंपनी ने तीन आंगनबाड़ी केंद्रो का पुनर्निर्माण करवाया। लर्निंग एच बिल्डिंग बनवायी और 57 लाख रुपये खर्च कर 72 सीसीटीवी लगवाए और तीन पुलिस स्टेशनों का सहयोग किया। इन सबसे 24 गांवों में 5000 ग्रामीणों को लाभ पहुंचा।
डालमिया सीमेंट (भारत) के बारे में—-

डालमिया सीमेंट (भारत) लिमिटेड (डीसीबीएल), डालमिया भारत लिमिटेड की सहायक कंपनी (BSE Code: 542216|NSE Symbol: DALBHARAT and listed in MSE), सीमेंट क्षेत्र की अग्रणी कंपनियों में से एक है जो कि 1939 से स्थापित है। डालमिया सीमेंट (भारत) लिमिटेड को सीमेंट के क्षेत्र में दुनिया भर में सबसे कम कार्बन फुटप्रिंट रखने के तौर पर जाना जाता है। यह RE100, EP100 & EV100 (तीन महत्वपूर्ण प्रमाणपत्र) के मानों पर खरा उतरने वाली पहली कंपनी है जो इसके स्वच्छ उर्जा क्षेत्र में बिजनेस लीडर होने को दर्शाता है। लगातार बढ़ रही क्षमता के साथ जो वर्तमान में 33 मिलियन टन है के साथ स्थापित क्षमता के मामले में डालमिया सीमेंट भारत की चौथी सबसे बड़ी सीमेंट निर्माता कंपनी है। देश के 9 राज्यों में 13 उत्पादन संयंत्रों के साथ कंपनी तेल के कुओं, रेलवे स्लीपरों, हवाई पट्टियों पर इस्तेमाल होने वाली सुपर स्पेशियल्टी सीमेंट वर्ग में लीडर है और कंपनी पोर्टलैंड स्लैग सीमेंट (पीएससी) की देश में सबसे बड़ी निर्माता है।

%d bloggers like this: