April 12, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

शराब के कारोबार से अपराध बढ़े, एक साल में हो गई कई हत्याएं

आरा:- भोजपुर जिले के बड़हरा थाना इलाके का आरा बड़हरा मुख्य मार्ग इन दिनों अपराधियों और शराब माफियाओं का केंद्र बन गया है और बड़हरा पुलिस व भोजपुर पुलिस हाथ पर हाथ धरे बैठी।एक के बाद एक कई हत्याओं का मुख्य केंद्र बड़हरा थाना क्षेत्र का फरना गांव बना हुआ है।यहां आरा बड़हरा मुख्य मार्ग पर लगातार हुई हत्याओं ने कानून व्यवस्था को कटघरे में खड़ा कर दिया था।डेढ़ वर्ष पूर्व इसी सड़क पर फरना गांव में एक युवक की सरेराह गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। इसी गांव में एक युवक प्रेम माली को शराबियों ने शराब के धंधे के दौरान मारकर कुएं में फेंक दिया था।जहां प्रेम माली की हत्या की गई उसके ठीक सामने बगीचे में अवैध शराब का धंधा चल रहा था। यह शराब का धंधा आज भी बदस्तूर जारी है जहां कथित बिजेंद्र नामक एक युवक झोंपडी लगाकर आज भी शराब का काला कारोबार करने में जुटा हुआ है। पुलिस को स्थानीय लोगो ने कई बार इस स्थल को चिन्हित करते हुए बिजेंद्र के काला कारोबार को ध्वस्त करने की मांग की।पुलिस ने कभी उसे गंभीरता से नही लिया और अपराध का यह शराब बिक्री केंद्र अड्डा बना रहा। हाल ही में फरना गांव में झोंपडी में सो रहे एक जदयू कार्यकर्ता को अपराधियो ने गोली मारकर हत्या कर दी।यह घटना अभी चर्चा ही में थी कि गत शुक्रवार को सीता राम केवट मूर्ति विसर्जन के दौरान एक युवक को अपराधियो ने दिनदहाड़े भरी सभा में गोली मार दिया।जख्मी हालत में आरा के एक निजी अस्पताल में युवक का फिलहाल इलाज चल रहा है। इन सब अपराध के केंद्र में फरना में चल रहा अवैध शराब का कारोबार।शराब का यह कारोबार फरना गांव में काली स्थान से ठीक पूरब नव निर्माणाधीन सरकारी बोरिंग से दक्षिण दिशा में सरकारी भूमि पर दखल जमाये लोगो द्वारा झोंपडी लगाकर हो रहा है। बगीचे की शक्ल ले चुके इस सरकारी भूमि पर वर्षो से इन शराब कारोबारियों ने कब्जा जमाया हुआ है और इसी भूमि पर शराब की बिक्री से फरना गांव में लगातार अपराध बढ़ता जा रहा है और फरना गांव कारतूस की ढेर पर खड़ा हो गया है। इस गांव में सरेराह सडको पर कब गोली चल जाए और कब किसी की हत्या हो जाय इसे कोई नही जानता।फरना के अलावा आसपास के इलाकों में भय और दहशत का आलम है। इस गांव में पूर्व सूचना पर अगर शराब के खिलाफ कार्रवाई हो जाती तो आपराधिक घटनाओं पर रोक लगाया जा सकता है।बड़हरा थाना पुलिस तब सक्रिय होती है जब घटनाएं घट जाती है।इस बार भी यही हुआ है सीता राम केवट मूर्ति विसर्जन के दौरान हुए फायरिंग के बाद पुलिस कुल आरोपियों में से फिलहाल एक आरोपी पूर्व चौकीदार जीउत पासवान के पुत्र शिव बहादुर पासवान को गिरफ्तार कर अपनी पीठ थपथपाने में लगी है जबकि मुख्य आरोपी उसका पुत्र अंकित कुमार उर्फ राजा अब भी पुलिस की पकड़ से बाहर है। पुलिस उसकी गिरफ्तारी के लिए मोबाइल सर्विलांस का सहारा लेकर गिरफ्तारी करने में जुटी हुई है। फिलहाल बड़हरा थाना क्षेत्र के फरना गांव में अपराध बढ़ने का सिलसिला जारी है।

Recent Posts

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
%d bloggers like this: