अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

कमजोर हुआ कोरोना! 18 अक्टूबर से पूरी क्षमता के साथ उड़ेंगे घरेलू यात्री विमान, केंद्र ने दी हरी झंडी

नई दिल्ली:- एयर सर्विस को लेकर सरकार की तरफ से जारी ताजा बयान के मुताबिक, 18 अक्टूबर 2021 से सभी एयरलाइन डोमेस्टिक रूट्स पर 100 फीसदी कैपेसिटी के साथ ऑपरेशन जारी रख सकते हैं. वर्तमान में डोमेस्टिक रूट पर केवल 85 फीसदी क्षमता के साथ उड़ान भरने की अनुमति है.

पिछले साल कोरोना लॉकडाउन के बाद जब एयर सर्विस दोबारा बहाल की गई (मई 2020) तो प्री-कोविड लेवल के मुकाबले एयरलाइन कैपेसिटी को धीरे-धीरे बढ़ाया गया. वर्तमान में यह 85 फीसदी है. सरकार के इस फैसले से एयरलाइन कंपनियों को काफी फायदा होगा. वे ज्यादा उड़ान भर पाएंगे. फेस्टिव सीजन आ गया है. ऐसे में 100 फीसदी की क्षमता का इस्तेमाल करने से उनके रेवेन्यू में भी काफी उछाल आएगा.

डिमांड में आई तेजी के कारण लिया गया फैसला

इस फैसले को लेकर सिविल एविएशन मिनिस्ट्री का कहना है कि एयर ट्रैवल को लेकर डिमांड में आई तेजी के कारण यह निर्णय लिया गया है. मंत्रालय की तरफ से जारी बयान में कहा गया कि पैसेंजर डिमांड और शेड्यूल डोमेस्टिक फ्लाइट ऑपरेशन को लेकर पहले डिटेल ऐनालिसिस किया गया, उसके बाद जरूरतों को ध्यान में रखते हुए सरकार ने एयरलाइन को 100 फीसदी क्षमता के साथ ऑपरेशन शुरू करने की अनुमति देने का फैसला किया है.

मई 2020 से कैपिंग के साथ एयरलाइन ऑपरेशन जारी

फ्लाइट कैपेसिटी कैपिंग की व्यवस्था को पहली बार मई 2020 में लागू किया गया था. दो महीने के कड़े लॉकडाउन के बाद जब सरकार ने डोमेस्टिक एयर ट्रैवल की अनुमति दी थी तो एयरलाइन अपनी पूरी क्षमता का इस्तेमाल नहीं कर सकते थे. धीरे-धीरे यह लिमिट बढ़ाई गई जो अभी प्री-कोविड लेवल का 85 फीसदी है.

दूसरी वेव के बाद क्षमता फिर से घटाई गई थी

एयरलाइन कैपेसिट का मतलब, नंबर ऑफ डिपार्चर फ्लाइट से होता है जो कोई एयरलाइन खास सीजन में ऑर्डर कर सकता है. कोरोना संकट को ध्यान में रखते हुए सरकार ने इस कैपेसिटी को आगे-पीछे किया है. दिसंबर 2020 में यह बढ़ते-बढ़ते 80 फीसदी तक पहुंच गया था. हालांकि, दूसरी वेव के आने के बाद 1जून को यह फिर से घटकर 50 फीसदी पर पहुंच गया था.

%d bloggers like this: