अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

संविधान, धर्मनिरपेक्षता और कानून की बात तभी तक जब तक हिन्दू बहुसंख्यक- नितिन


गांधीनगर:- गुजरात के उपमुख्यमंत्री तथा सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता नितिन पटेल ने कहा है कि भारत में संविधान, धर्मनिरपेक्षता और कानून की बात तभी तक है जब तक हिन्दू बहुसंख्यक है।
उन्होंने दावा किया कि एक बार हिन्दू समुदाय अल्पसंख्यक बना तो इनमे से कुछ भी नहीं बचेगा।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के करीबी माने जाने वाले श्री पटेल ने यहां विश्व हिंदू परिषद की ओर से आयोजित भारत माता मंदिर में प्रतिमा स्थापना समारोह में कल अपने संबोधन में यह बात कही। उन्होंने कहा, ‘अपने देश में कुछ लोग संविधान और धर्मनिरपेक्षता की बात करते हैं। पर मैं कहता हूं और आप मेरी बात विडीओ में उतर लीजिए या लिख लीजिए कि ऐसे लोग संविधान, धर्मनिरपेक्षता और कानून आदि के बारे में तभी तक बातें करेंगे जब तक हिन्दू बहुसंख्यक है। जिस दिन हिंदुओं की संख्या घाट गयी या दूसरों की बढ़ गयी, कोई भी धर्मनिरपेक्षता नहीं होगी, संसद और संविधान भी नहीं होंगे। ऐसी हर वस्तु या तो हवा में उड़ा दी जाएगी या ज़मीन में दफ़न कर दी जाएगी। ऐसा कुछ भी नहीं बचेगा। उन्होंने कहा, ‘ मैं यह भी साफ़ कर देना चाहता हूँ की मैं सबकी बात नहीं कर रहा। लाखों मुस्लिम देशभक्त हैं, लाखों ईसाई देशभक्त हैं। हज़ारों मुसलमान भारतीय सेना और गुजरात पुलिस में भी हैं। ये सब के सब देशभक्त हैं। राज्य के गृह सह क़ानून राज्य मंत्री प्रदीपसिंह जाडेजा की मौजूदगी में श्री पटेल ने इस मौक़े पर अपने संबोधन में विवादास्पद गुजरात धार्मिक स्वतंत्रता (संशोधन) अधिनियम 2021 की भी चर्चा की। उन्होंने कहा कि इसका किसी धर्म विशेष से कोई लेना देना नहीं है। अगर हिंदू लड़का मुस्लिम लड़की को धोखा देते हुए उससे शादी करता है तो यह उस पर भी उतना ही लागू होगा। उन्होंने कहा कि गुजरात सरकार इस क़ानून की कुछ धाराओं पर हाई कोर्ट की ओर से लगायी गयी रोक को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देगी। श्री पटेल ने कहा कि इस कानून को हाई कोर्ट में चुनौती देने वाले संगठन विशेष से वह जानना चाहते है कि अगर हिंदू लड़कियां, हिंदू लड़कों से और मुस्लिम लड़कियां, मुसलमान लड़कों से शादी करें तो उसे क्या आपत्ति है।

%d bloggers like this: