अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

राहुल गांधी व अन्य लोगों की फोन हैकिंग के खिलाफ कांग्रेस का कल राजभवन मार्च , तैयारियां पूरी


रांची:- इजरायली स्पाईवेयर ‘‘पेगासस’’ के माध्यम से भारत सरकार द्वारा विपक्षी नेताओं, वरीय सैन्य अधिकारियों, चुनाव आयुक्त, पत्रकारों और कुछ अन्य गणमान्य लोगों की फोन हैकिंग मामले के खिलाफ कांग्रेस की ओर से कल 22 जुलाई को राष्ट्रव्यापी विरोध प्रदर्शन का निर्णय लिया गया है। राजधानी रांची में झारखंड प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष डॉ0 रामेश्वर उरांव और विधायक दल के नेता आलमगीर आलम के नेतृत्व में राजभवन मार्च का आयोजन किया जाएगा। राजभवन मार्च की तैयारियों को अंतिम रूप देने के लिए आज रांची में पार्टी के प्रदेश पदाधिकारियों और वरिष्ठ नेताओं की एक महत्वपूर्ण बैठक हुई।
प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता आलोक कुमार दूबे, लाल किशोरनाथ शाहदेव और डॉ0 राजेश गुप्ता छोटू ने बताया कि प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डॉ0 रामेश्वर उरांव, विधायक दल के नेता आलमगीर आलम, मंत्री बादल और बन्ना गुप्ता के नेतृत्व में कोरोना गाइडलाइन का पालन करते हुए कल पूर्वाह्न 11.30बजे रांची स्थित प्रदेश कांग्रेस कार्यालय से राजभवन मार्च का आयोजन किया जाएगा। कोविड-19 गाइडलाइन के तहत पार्टी के प्रदेश पदाधिकारी और वरिष्ठ नेतागण छोटी-छोटी टोलियों में जुलूस निकाल कर राजभवन मार्च करेंगे।
प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता आलोक कुमार दूबे ने बताया कि राजभवन मार्च के दौरान कांग्रेस कार्यकर्त्ता हाथों में तख्तियां लिये हुए रहेंगे, जिसमें स्पाईवेयर पेगासस के माध्यम से फोन हैकिंग में केंद्र सरकार की संलिप्तता की जांच सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश से कराने और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के इस्तीफे की मांग की जाएगी। इस पूरे प्रकरण में प्रधानमंत्री और गृहमंत्री की भूमिका की जांच जरूरी है। उन्होंने कहा कि हाल के प्रकाशित रिपोर्ट में यह खुलासा हुआ है कि वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इशारे पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राहुल गांधी समेत अन्य लोगों की मोबाइल फोन हैकिंग की गयी। उन्होंने बताया कि इजरायली कंपनी एनएसओ सिर्फ आतंकवाद और उग्रवाद के खिलाफ लड़ाई के लिए यह स्पाईवेयर पेगासस साफ्टवेयर सिर्फ विभिन्न देशों की सरकार को ही उपलब्ध कराती है, इसलिए यह स्पष्ट हो जाता है कि इसे केंद्र सरकार ने ही खरीदा है, इसलिए यह भी खुलासा होना चाहिए कि केंद्र सरकार ने कितने हजार करोड़ रुपये के इस साफ्टवेयर की खरीदारी की।
प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता लाल किशोरनाथ शाहदेव ने कहा कि पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव केसी वेणुगोपाल की ओर से यह भी खुलासा किया गया है कि कर्नाटक और मध्य प्रदेश में कांग्रेस सरकार गिराने में इसी स्पाईवेयर पेगासस का इस्तेमाल किया गया है। केंद्र की भाजपा सरकार में अब किसी भी व्यक्ति की निजता सुरक्षित नहीं है, सरकार बाथरूम तक में ताकझांक की कोशिश में जुटी हुई है।
प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता डॉ0 राजेश गुप्ता छोटू ने कहा कि भाजपा अब इस स्पाईवेयर पेगासस के मामले में सफाई देना छोड़ा और मामले की गहन छानबीन के लिए उच्चस्तरीय जांच जरूरी है। जांच से भाजपा की काली करतूतें सामने आ जाएगी। यह भी साफ हो जाएगा कि सैन्य अधिकारियों , चुनाव आयुक्त, पत्रकारों और जजों की जासूसी की जरूरत केंद्र सरकार को क्यों पड़ी।

%d bloggers like this: